रंगारंग कार्यक्रमों के साथ बैकुंठ चतुर्दशी मेले का आगाज, उच्च शिक्षा मंत्री रावत ने किया उद्धाटन

12

श्रीनगर गढ़वाल। श्रीनगर के प्रसिद्ध बैकुंठ चतुर्दशी मेला एवं विकास प्रदर्शनी का रंगारंग आगाज हो गया है। मेले का उद्घाटन क्षेत्रीय विधायक एवं उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने किया। उन्होंने सभी को बैकुंठ चतुर्दशी मेला एवं कमलेश्वर महादेव में होने वाले खड़ दीपक आयोजन की बधाई व शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि वह श्रीनगर को अतिक्रमण मुक्त करना चाहते हैं। कहा इस कार्य के लिए उन्हें नगर पालिका का सहयोग चाहिए। यदि नगर पालिका ने साथ दिया तो एक महीने में ही अतिक्रमण हटाकर श्रीनगर को प्रदेश के बड़े बाजार के रूप में स्थापित कर दिया जाएगा। गोला पार्क में हुए मुख्य कार्यक्रम के दौरान डा.रावत ने कहा कि श्रीनगर के विकास के लिए वह नगर पालिका एवं यहां के प्रत्येक आम आदमी के साथ हैं। उन्होंने नगर पालिका को श्रीनगर में मोलाराम तोमर का स्मारक व मूर्ति स्थापित करने व श्रीनगर में ऑडिटोरियम बनाने के लिए जगह उपलब्ध कराने को कहा। उन्होंने जगह मिलते ही ऑडिटोरियम व स्मॉरक बनाने का काम शुरू करने की घोषणा की। कहा राज्य सरकार श्रीनगर को महानगर पालिका बनाना चाहती है। इसकी प्रकिया जोरों पर है। उन्होंने एक सप्ताह के अंदर श्रीकोट गंगानाली में स्टेडियम बनाए जाने का जीओ जारी होने की बात भी कही। इससे पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष पूनम तिवाड़ी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने नगर पालिका क्षेत्र की जनता को विश्वास दिलाते हुए कहा कि वह अपनी ओर से नगर के विकास के लिए कोई कमी नहीं होने देंगी। उन्होंने बैकुंठ चतुर्दशी मेले की बधाई देते हुए इसके सफल आयोजन के लिए सभी के सहयोग की अपील की। संचालन सभासद संजय फौजी ने किया। कार्यक्रम में यह रहे मौजूदश्रीनगर गढ़वाल। गोला पार्क में उदघाटन कार्यक्रम के दौरान कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता प्रदीप तिवाड़ी, कांग्रेस प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य वीरेंद्र सिंह नेगी, सीओ वंदना वर्मा, एसडीएम दीपेंद्र सिंह नेगी, तहसीलदार सुनील राज, कोतवाल नरेंद्र बिष्ट, सभासद अनूप बहुगुणा, हरि सिंह मियां, विभोर बहुगुणा, विनीत चंद्र पोश्ती, सूरज, प्रमिला भंडारी, कविता रावत, विनोद मैठाणी, राकेश सेमवाल, हिमांशु बहुगुणा, पूजा गौतम, अनीता भारती गोस्वामी, भाजपा नेता अतर सिंह असवाल, कांग्रेसी हीरा लाल जैन, लाल सिंह नेगी, कुशलानाथ आदि मौजूद रहे।