दून का बहुचर्चित हत्याकांड का फरार आरोपित 13 साल बाद गिरफ्तार

देहरादून, बहुचर्चित प्रॉपर्टी डीलर विनय क्षेत्री हत्याकांड के आरोपित को 13 वर्ष बाद पुलिस ने मुजफ्फरनगर से गिरफ्तार किया है। वह जमानत पर जेल से छूटने के बाद फरार हो गया था।

दून के थाना नेहरू कॉलोनी पर पंजीकृत मुकदमा अपराध संख्या 21/ 2008 धारा 302, 380, 411 ,148,120बी भादवि में अभियुक्त सुमित पुत्र गोपाल निवासी जड़ौदा थाना मंसूरपुर जिला मुज़्ज़फरनगर उत्तर प्रदेश को वर्ष 2008 में गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया था, जो जमानत पर रिहा हुआ था और उसके बाद से ही फरार चल रहा था।

अभियुक्त के विरुद्ध सत्र न्यायालय से गैर जमानती वारंट पहले भी कई बार जारी हुए थे, लेकिन अभियुक्त लगातार अपनी गिरफ्तारी से बच रहा था और लगातार अपने पते बदल रहा था। वर्तमान में भी अभियुक्त के विरुद्ध गैर जमानती वारंट जारी किया गया था, जिसकी तामिली के क्रम में एचसीपी डालेंद्र चौधरी के नेतृत्व में टीम गठित कर अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु निर्देश दिए गए थे।

इस पर एचसीपी डालेंद्र चौधरी और आरक्षी आशीष राठी ने लगातार तीन दिन कुशल सुरागरसी पतारसी करते हुए अभियुक्त सुमित पुत्र गोपाल निवासी जड़ौदा थाना मंसूरपुर जिला मुज़्ज़फरनगर उत्तर प्रदेश को उसके गांव से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्त को थाना नेहरू कॉलोनी लाया गया है, जिसे कल न्यायालय पेश किया जाएगा।

थानाध्यक्ष नेहरू कालोनी सतबीर बिष्ट ने बताया कि, मोथरोवाला में संपत्ति के विवाद में सात आरोपितों ने 2008 में प्रापर्टी डीलर विनय क्षेत्री की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बदमाश यतेंद्र चौधरी के शामिल होने की बात सामने आई थी। पुलिस ने हत्यारोपित सभी सात व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया था। यतेंद्र चौधरी और उसके गुर्गे सुमित को कोर्ट से जमानत मिल गई थी, लेकिन वह दोबारा कोर्ट में पेश नहीं हुए। एसआइटी ने हत्या के कई अन्य मामलों में भी आरोपित यतेंद्र चौधरी को 2013 में गिरफ्तार कर लिया था। सुमित की तलाश में पुलिस दबिश दे रही थी।