हरिद्वार : ‘रिंगिंग बेल्स’ के नाम पर धोखाधड़ी, तीन साल से चल रहा फरार आरोपी को पुलिस ने दबोचा

हरिद्वार, रुडकी में वर्ष 2017 में बहुचर्चित रिंगिंग बेल्स कंपनी के नाम पर 251 रुपये में स्मार्टफोन दिलाने का झांसा देकर दुकानदार से लाखों की ठगी करने के मामले में फरार चल रहे आरोपी को पुलिस ने लुधियाना से गिरफ्तार कर लिया। वह पिछले तीन साल से फरार चल रहा था। पुलिस ने आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया।

सिविल लाइंस कोतवाली में शनिवार को प्रेसवार्ता कर सीओ चंदन सिंह बिष्ट ने बताया कि 20 मई 2017 को अशोक कुमार निवासी भुटानी मैसर्स हार्दिक टेलीकॉम 11 सिविल लाइंस, रुड़की ने तहरीर दी थी। उन्होंने बताया था कि रिंगिंग बेल्स प्राइवेट लिमिटेड इंदिरापुरम, गाजियाबाद के प्रबंधक निदेशक मोहित गोयल, जरनल मैनेजर अनमोल गोयल निवासी मोह शक्ति, थाना नागल जिला शामली ने अपनी कंपनी का स्मार्टफोन देने का वादा किया था।

बताया था कि यह फोन प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया का हिस्सा है। कुछ दस्तावेज भी दिखाए गए थे। बताया था कि प्रवीण गोयल को सुपर स्टॉकिस्ट बनाया गया है। मोबाइल के ऑर्डर देते समय उन्होंने एडवांस में 3,21,900 रुपये दिए थे। इसके बाद 67 और 16 हजार रुपये और दिए।

आरोप था कि उन्हें दूसरी कंपनी के मोबाइल भेजे गए। सीओ ने बताया कि तहरीर के आधर पर मोहित गोयल, धारा गोयल निवासी मोहशक्ति नागल शामली, अनमोल गोयल, प्रवीण गोयल और समीर बजाज के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। मामले में समीर बजाज फरार चल रहा था।

चौथे प्रयास में धरा गया आरोपी
सीओ ने बताया कि वादी की अपील पर मामले की जांच थाना थत्यूड़, गढ़वाल को दी गई थी। पुलिस तभी से आरोपी की तलाश कर रही थी। आरोपी पर 1500 रुपये का इनाम था। इस बीच सूचना मिली कि आरोपी पंजाब में रह रहा है। एसआई अंकुर शर्मा, सिपाही रामबीर सिंह और हुकुम सिंह पंजाब पहुंचे।

टीम ने समीर बजाज निवासी मकान नंबर-185 बी, भाई हिम्मत सिंह नगर ब्लॉक बी पंजाब पैलेस गिल गांव, लुधियाना को गिरफ्तार कर रुड़की ले आई। सीओ ने बताया कि आरोपी को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है। इस मामले में थत्यूड़ पुलिस आरोपी को रिमांड पर अपने यहां ले जाएगी।

पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए तीन बार प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। इसके बाद एसआई अंकुर शर्मा ने अपने मुखबिर अलर्ट किए। साथ ही अपने नेटवर्क को भी सक्रिय किया। बेहतरीन नेटवर्क के जरिये सटीक सूचना मिली की आरोपी घर पर ही है। इस पर वह आरोपी के घर पहुंचे और वह धरा गया। एसपी देहात एस के सिंह व सीओ चंदन सिंह बिष्ट ने एसआई अंकुर शर्मा और उनकी टीम को बधाई दी ।

‘रिंगिंग बेल्स’ कंपनी के झांसे में लोग ऐसे ही नहीं आए बल्कि उन्हें पूरा सपना दिखाया गया। देश के नामचीन माननीयों के कूटरचित पत्र और कुछ के चेहरे दिखाकर लोगों से करोड़ों की ठगी को अंजाम दिया गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिजिटिल इंडिया मुहिम का भी सहारा लिया गया और देशभर में करीब 110 डिस्ट्रीब्यूटर्स बना लिए गए। ज्यादातर से कंपनी के पांचों पार्टनर खुद जाकर मिले। मामले का खुलासा हुआ तो गाजियाबाद पुलिस ने रिंगिंग बेल्स के एमडी मोहित गोयल समेत अन्य को गिरफ्तार कर लिया था।