गैरसैंण : उत्तराखण्ड की एक नई कमिश्नरी

गैरसैंण, उत्तराखंड में अब दो नही तीन मंडल (कमिश्नरी) होंगे। चमोली के भराड़ीसैंण (गैरसैंण) में बजट पेश करने के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कुछ बेहद महत्वपूर्ण घोषणाएं की। जिसमें गैरसैंण को उत्तराखण्ड की एक नई कमिश्नरी बनाया जाना बजट सत्र के दौरान की सबसे बड़ी घोषणा रही।

गौरतलब हो कि बजट सत्र के दौरान सीएम रावत ने कहा कि गैरसैंण को उत्तराखण्ड में एक नई कमिश्नरी बनाया जायेगा। जिसमें चमोली, रूद्रप्रयाग, अल्मोड़ा और बागेश्वर जिलों को शामिल किया जायेगा। गैरसैंण कमिश्नरी में कमिश्नर एवं डीआईजी की नियुक्ति की जायेगी। वही प्रदेश में नई बनाई गई नगर पंचायतों में इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए 01-01 करोड़ रूपये दिये जायेंगे।

साथ ही भराड़ीसैंण (गैरसैंण) ग्रीष्मकालीन राजधानी क्षेत्र के नियोजित विकास के लिए मास्टर प्लान का टेंडर एक माह के भीतर किया जाएगा। एवं गैरसैंण ग्रीष्माकालीन राजधानी परिक्षेत्र में खाद्य प्रसंस्करण इकाई की स्थापना की जायेगी।
उन्होंने यह भी कहा कि गैरसैंण ग्रीष्माकालीन राजधानी परिक्षेत्र में 20 हजार फलदार पेड़ लगाये जायेंगे इसके साथ प्रदेश के प्रत्येक महाविद्यालयों को 20-20 कम्यूटर भी दिये जायेंगे।

प्रदेश की इस तीसरी कमिश्नरी में चमोली, रुद्रप्रयाग, अल्मोड़ा और बागेश्वर जिले शामिल होंगे। कमिश्नरी का मुख्यालय गैरसैंण में होगा। इसके साथ ही गैरसैंण के विकास के लिए प्रस्तावित मास्टर प्लॉन का टेंडर एक महीने के भीतर कर दिया जाएगा। सीएम की घोषणा का सदन ने मेज थपथपाकर स्वागत किया।