‘कोविशील्ड’ बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट के प्लांट में लगी भीषण आग, पांच की मौत

पुणे, कोरोना की वैश्विक महामारी कोविड-19 की वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ बनाने वाली सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया की इमारत की दूसरी मंजिल पर आज गुरुवार को अचानक भीषण आग लग गई। हादसे में पांच लोगों की मौत हो गयी, समाचार लिखे जाने तक आग बुझाने के लिए दमकल की 10 गाड़ियां घटनास्थल पर मौजूद थीं और आग बुझाने का प्रयास जारी था। हादसे पर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ने शोक जताया |

अभी तक आग लगने का कारण पता नहीं चल सका है। जिस जगह पर कोरोना वैक्सीन बनाने का काम किया जाता है। वह जगह पूरी तरह से सुरक्षित है। इस जगह के दूसरी तरफ का जो गेट है वहां पर आग लगी है। जिसकी वजह से कोरोना वैक्सीन को किसी भी प्रकार का खतरा नहीं है। कोविड शील्ड गेट नंबर 3, 4 और 5 के परिसर में सुरक्षित है।

सिरम इंस्टीट्यूट के मंजरी प्लांट में एक अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग में आग लगी है। वैक्सीन और वैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग प्लांट सुरक्षित है। वैक्सीन प्रोडक्शन पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा। सीरम इंस्टीट्यूट में ही ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड बनाई जा रही है। यह वैक्सीन इस कैम्पस के अलग हिस्से में बनाई और स्टोर की जा रही है। सीरम कंपनी ने हाल ही में यहां से वैक्सीन की खेप देशभर में पहुंचाने का सिलसिला शुरू हुआ है |हालांकि यह आग कैसे लगी, इसको लेकर जांच पड़ताल की जा रही है। फिलहाल आग पर काबू पाया जा रहा है। आग लगने के साथ ही आसपास का माहौल धुंए से भर गया |

 

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि राज्य सरकार ने आग की जांच के आदेश दिए हैं। पवार ने कहा, मैंने पुणे नगर निगम से घटना के बारे में जानकारी ली है और इस घटना की विस्तृत जांच करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि आग लगने के कारण वहां टीके बनाने की प्रक्रिया पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्थानीय प्रशासन से आग को नियंत्रण में लाने को कहा है।