जन्म से दिव्यांग बच्ची के लिए परिजनों ने मांगी आर्थिक मदद

नई टिहरी। जिले की जुवा पट्टी के सेलूर गांव के रहने वाले संदीप नेगी व उनकी पत्नी रेखा ने अपनी जन्म से दिव्यांग बच्ची के इलाज के लिए उन्होंने आर्थिक मदद की गुहार लगाई है। बीती 25 जनवरी को संदीप नेगी की पत्नी ने दिव्यांग बच्ची को बौराड़ी अस्पताल में जन्म दिया। बच्ची जन्म के वक्त से ही हाथ व पैरों से दिव्यांग पैदा हुई है। जन्म के वक्त से ही बच्ची के दोनों हाथों में मात्र एक अंगुली है। जबकि दोनों पैरों में एक-एक अंगुली और अंगुठा है। स्थानीय डाक्टरों से इन्हें बच्ची के इलाज की सलाह दी है।

बड़े स्तर पर इलाज के साथ बच्ची के लालन-पालन के लिए संदीप व रेखा ने आर्थिक मदद की गुहार लगाई है। गांव के सामाजिक कार्यकर्ता करन डोभाल ने बताया कि संदीप कृषि पर निर्भर हैं, आर्थिक रूप से बेहद कमजोर होने के कारण दिव्यांग बच्ची की परवरिश व इलाज के लिए अब परेशान हैं। समाज के सक्षम लोग संदीप की मदद को कदम आगे बढ़ाने का काम करें। मदद के लिए संदीप नेगी के मोबाईल नं0 8958371250 पर संपर्क कर सकते हैं। क्या कहते हैं समाज कल्याण अधिकारी जिला समाज कल्याण अधिकारी अविनाश भदौरिया का कहना है कि जन्म से दिव्यांग बच्ची के लिए दिव्यांग भरण-पोषण भत्ते का प्रावधान है। इसके साथ ही जब बच्ची पढ़ने-लिखने की स्थिति में आयेगी तो छात्रवृति की भी व्यवस्था की जाती है।