जिलाधिकारी ने स्थलीय निरीक्षण कर लिया वृझारोपण का जायजा

90

रुद्रप्रयाग (देवेन्द्र चमोली)
जल संरक्षण एंव संवर्धन कार्यक्रम के तहत 2 माह पूर्व ग्राम कुरझण के बौसेड़ी गदेरे में रोपे गये पौधो का आज जिलाधिकारी द्वारा निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल की पहल पर लगभग तीन कि.मी छैत्र में चलाये जा रहे इस बृहद बृझारोपण व जल संरक्षण कार्यक्रम के तहत रोपे गये पौध व खंतियों की वास्तुस्थिति का अवलोकन किया गया।
आज प्रातः ग्राम पंचायत कुरझण क्वीली की महिलाओं व रोपे गये पौधो की देख रेख में लगे स्थानीय लोगो के साथ जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बौसेड़ी गदेरे के ऊपरी ढलान में हुये बृझारोपण व खंतियों का जायजा लिया यहां रौपे गये लगभग 600 बांज व अन्य प्रजाति के पौधो की 90 प्रतिशत जीविता से जिलाधिकारी काफी खुश दिखे। उन्होंने स्थानीय लोगो को जल संरक्षण हेतु इस ढलान पर ओर अधिक खंतियों खोदने के लिये भी प्रेरित किया। बता दें कि 2 माह पूर्व लगभग 3 कि.मी. छैत्र में स्थानीय जनता के सहयोग व जाने माने पर्यावरण विदों की प्रेरणा से जिलाधिकारी की पहल पर ग्राम पंचायत कुरझण व क्वीली के बौंसेड़ी गदेरे के ऊपरी ढलान पर बृहद बृझारोपण व खंतियों का निर्माण किया गया जो कि लगातार जारी है इस गदेरे से छैत्र के दर्जनों गांवों को पेय जल व सींचाई का पानी उपलब्ध होता है। इसे देखते हुये जल श्रोत को सदाबहार बनाये रखने के उद्देश्य से सींचाई विभाग के तत्वावधान में यह बृहद कार्यक्रम चलाया जा रहा है ।
पर्यावरण से जुडे़ शिझक सतेन्द़ भंडारी के संयोजकत्व में ग्राम पंचायत क्वीली व कुरझण में समिति गठित की गयी व पौधो की नियमित देख रेख के लिये स्थानीय महिलाओं को जिम्मेदारी दी गयी

जिलाधिकारी की इस पहल में स्थानीय लोग बढ़ चढ़कर भागीदारी कर रहे है जिसका नतीजा यह है कि 2 माह में पौधो की जीवितता 90 प्रतिशत देखी गयी स्वयं जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने 5 कि. मी. की इस दुर्गम चड़ाई पर पहुंच कर प्रगति का जायजा लिया व रौपे गये पौधो को पानी दिया। जिलाधिकारी के इस प्रयास से स्थानीय लोग पर्यावरण व जल संरक्षण के प्रति उत्साहित है।

यह खबर भी पढ़ें:- वृक्षारोपण ही जल संकट का समाधान- जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल