अतिथि देवो भवः की परम्परा का निर्वहन करें: ममगांई

25

रुद्रप्रयाग। चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष (राज्यमंत्री) आचार्य शिव प्रसाद ममगंाई ने केदारपुरी पहुंचकर यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। आचार्य ममंगाई ने मंदिर में जलाभिषेक कर पूजा-अर्चना की और मंदिर के भीतर रहकर व्यवस्थाओं को देखते रहे। उन्होंने मंदिर समिति के कर्मचारियों की बैठक ली और अतिथि देवो भवः की परम्परा को ध्यान में रखते हुए यात्रियों को सुविधाएं देने को कहा।

केदारनाथ में बार-बार अव्यवस्थाओं को लेकर मिल रही शिकायत पर सोमवार को चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष (राज्यमंत्री) आचार्य शिव प्रसाद ममगंाई केदारनाथ धाम पहुंचे और यात्रा को लेकर श्रद्धालुओं से जानकारी ली। साथ ही राज्यमंत्री ने तीर्थ पुरोहित एवं मंदिर समिति के कर्मचारियों की समस्याओं को भी सुना। आचार्य ममगांई ने कहा कि हेली सेवाओं में ब्लेक टिकटिंग के मामले से राज्य सरकार की छवि धूमिल हो रही है, जबकि यात्रियों के साथ मारपीट की घटनाओं से शर्मशार किया है। कहा कि हेली सेवाओं में कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल सतर्कता बरते हुए हैं।

इसके अलावा हवाई सेवाआंे में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता देने के भी प्रयास किये जा रहे हैं। प्रशासन, शासन एवं सरकार यात्रा व्यवस्थाओं को सुदृढ़ बनाने में जुटी हुई है। कहा कि वे अपनी वेबसाइड के माध्यम से यात्रा पर निगरानी रखेंगे। श्री ममगांई ने कहा कि तीर्थयात्रियों के भोजन एवं ठहरने के लिए व्यवस्थाएं बनाई गई हैं। केदारनाथ में तीर्थ पुरोहितों के भवनों का निर्माण कार्य चल रहा है, जिससे आने वाले समय में व्यवस्थाएं और भी मजबूत हो जायेंगी। उन्होंने उप जिलाधिकारी एवं पुलिस प्रशासन को यात्रियों के साथ अच्छा व्यवहार अपनाने को कहा। उन्होंने कहा कि केदारधाम में रेन शेल्टर की आवश्यकता है, जिसको लेकर किसी कंपनी से बात की जा रही है। बिना रेन शेल्टर के तीर्थयात्री धूप व बारिश में परेशान हो रहे हैं। कहा कि केदारनाथ में वीआईपी दर्शन करने वाले तीर्थयात्रियों को पांच मिनट का समय दिया जाय। आचार्य ममंगाई ने कहा कि धाम में व्यवस्थाओं को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए मुख्यमंत्री से वार्ता की जायेगी।