देहरादून के मुख्य मार्गो के बाद अब की गलियों से भी हटेगा अतिक्रमण, निगम की टीम ने लगाए निशान

देहरादून, जनपद में बढ़ते अतिक्रमण पर प्रशासन समय समर पर अभियान चलाया जॎता रहा है, इसी के तहत शहर में मुख्य सड़कों के बाद अब प्रमुख गलियों में भी स्थायी अतिक्रमण हटाने की तैयारी चल रही। इसकी शुरुआत घंटाघर से सटी पुरानी घोसी गली से की जाएगी। यहां व्यापारियों ने नाली व सड़क पर कब्जा कर अतिक्रमण किया हुआ है। गुरुवार को नगर निगम की टीम ने यहां अतिक्रमण चिह्नित कर लाल निशान लगाए। व्यापारियों को सोमवार तक की मोहलत दी गई है कि स्वयं अतिक्रमण तोड़ दें, वरना निगम टीम अतिक्रमण तोडऩे की कार्रवाई करेगी।

नगर निगम कईं दिनों से शहर की प्रमुख गलियों को अतिक्रमणमुक्त करने की योजना बना रहा है। इसके लिए प्रमुख गलियों की सूची भी तैयार की गई है, जहां आवाजाही पूरा दिन रहती है और यातायात जाम जैसी स्थिति बनती है। इसी क्रम में घोसी गली के पार्षद रोहन चंदेल ने महापौर और नगर आयुक्त से गली को अतिक्रमणमुक्त करने की अपील की थी। दरअसल, गलियों में नालियों पर कब्जा होने की वजह से सफाई की समस्या भी बनी रहती है। नाली चोक होने से बरसात में गंदा पानी घरों तक आ जाता है और आमजन को दिक्कतें उठानी पड़ती हैं।

इसे देखते हुए अब नगर निगम की भूमि अनुभाग की टीम ने कार्रवाई की तैयारी कर ली है। इसके तहत गुरुवार को भूमि कर अधीक्षक विनय प्रताप सिंह के निर्देश पर निगम की टीम ने घोसी गली में अतिक्रमण चिह्नित कर लाल निशान लगा दिए। इससे व्यापारियों में हड़कंप मच गया और कार्रवाई रोकने के लिए दबाव बनाने की कोशिश भी की। पार्षद रोहन चंदेल के मौके पर रहने से टीम पीछे नहीं हटी और 24 बड़े अतिक्रमण चिह्नित किए। निगम टीम के मुताबिक कुल लगभग पांच दर्जन अतिक्रमण हैं। अगर दुकानदारों ने सोमवार तक खुद अतिक्रमण नहीं तोड़ा तो निगम टीम मंगलवार को अतिक्रमण तोडऩे की कार्रवाई करेगी।

भारतीय गणतंत्र 26 जनवरी के उपलक्ष में महापौर सुनील उनियाल गामा ने गुरुवार शाम परेड ग्राउंड में चल रहे स्मार्ट सिटी के कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान ग्राउंड में बनाए जा रहे मंच की ग्रिल के कार्य की गुणवत्ता भी जांची। महापौर द्वारा कार्यदायी संस्था को गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं करने की हिदायत दी। उनके साथ राजपुर विधायक खजानदास भी मौजूद रहे।