कोरोना वायरस : क्रूज पर फंसीं सोनाली ठक्कर, बोलीं- हमें यहां से निकालो

चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में फैल गया है. जापान में एक लग्जरी क्रूज डायमंड प्रिंसेस को योकाहामा पोर्ट पर सरकार ने आइसोलेट करके रखा है. इस जहाज के 219 यात्री कोरोना वायरस के पॉजिटिव पाए गए हैं, जिसमें दो भारतीय हैं. जहाज पर क्रू और टूरिस्ट को मिलाकर कुल 138 भारतीय हैं.

इतनी बड़ी संख्या में पॉजिटिव केस मिलने के बाद जापान के प्रशासन ने इस पूरे क्रूज लाइनर को quarantine करके रखा है, लेकिन जहाज पर मौजूद जो लोग संक्रमित नहीं हैं ऐसी स्थिति में उनके संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. मुंबई की सोनाली ठक्कर भी क्रूज पर फंसी हुई हैं.सोनाली इस जहाज पर सिक्योरिटी ऑफिसर हैं. उन्होंने भारत सरकार से गुहार लगाई है कि अगर उन्हें ज्यादा दिन इस जहाज पर रखा गया तो वो भी कोरोना से संक्रमित हो सकती हैं. इसलिए उन्हें और जहाज पर फंसे दूसरे भारतीयों को सरकार जल्द से जल्द भारत बुलाने का इंतजाम करे. आजतक से खास बातचीत में सोनाली ने कहा, ‘प्लीज उन लोगों को मैसेज भेजें जो हमारी मदद कर सकते हैं. 10 दिन हो गए हैं. हमें यहां से निकाला जाए’. सोनाली ने कहा कि इस जहाज पर हजार से अधिक क्रू मेंबर हैं. हम साथ रहते हैं, खाते-पीते हैं. कौन कोरोना वायरस की चपेट में है, इसका पता नहीं चल पाता है. जहाज में मौजूद लोगों की जांच कराए जाए और जो लोग ठीक हैं उन्हें अलग रखा जाए. उन्होंने कहा कि मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं है, लेकिन हम भारतीय दूतावास से संपर्क नहीं कर पाए हैं. हालांकि वो अपने परिवार के संपर्क में हैं और घरवाले उनके लिए चिंतित हैं. कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए लोगों में दो भारतीय हैं जो जहाज के क्रू सदस्य हैं. इस जहाज पर 132 भारतीय क्रू और 6 टूरिस्ट हैं. विदेश मंत्री जयशंकर के मुताबिक, टोक्यो में भारतीय दूतावास जहाज पर मौजूद भारतीयों के संर्पक में है, जबकि स्वास्थ्य मंत्री का कहना है विदेश मंत्रालय क्रूज में फंसे लोगों की मदद की कोशिश कर रहा है.