पतंजलि व उ0प्र0 सहकारी समिति के बीच हुआ अनुबन्ध

5

हरिद्वार (कुल भूशण षर्मा) स्वदेशी आन्दोलन को विस्तार प्रदान करने के उद्देश्य से पतंजलि आयुर्वेद लिण् तथा मेरठए सहारनपुर तथा मुरादाबाद मण्डल के अन्तर्गत संचालित 271 उत्तर प्रदेश सहकारी समितियों के मध्य एमण्ओण्यूण् पर हस्ताक्षर हुए। इससे पूर्व मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम में पधारे उत्तर प्रदेश सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा का आचार्य बालकृष्ण ने शाल तथा पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत कियाए तत्पश्चात् दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

कार्यक्रम में सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि हमारी आस्था के केन्द्र हरिद्वार की पवित्र भूमि पर स्थापित पतंजलि योगपीठ की योगए अध्यात्मए स्वदेशी तथा अनेक जनकल्याणकारी सेवाओं को प्रणाम। उन्होंने कहा कि आज का यह अनुबंध ग्रामीणोंए किसानों तथा सहकारी समितियों के लिए निश्चित रूप से परिणामदायक होगा। यह सहकारी समितियों के लिए तो निश्चित रूप से लाभकारी होगा हीए साथ ही सुदूर ग्रामीण क्षेत्र में निवास कर रहे ग्रामीणों को पूर्ण स्वदेशी व गुणवत्तायुक्त उत्पाद विशेष छूट पर सुलभ हो सकेंगे। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस योजना से सहकारी समितियों को 250 से 300 करोड़ रुपये सालाना प्राप्त होंगेए जिससे आर्थिक रूप से पिछड़ी समितियों को नया जीवन मिलेगा। उन्होंने कहा कि आचार्य जी में वह क्षमता है जो विषयों का आंकलन कर ऐसी व्यवस्था कर सकेंए जहाँ परिणाम दिखाई दे।

इस अवसर पर आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि स्वामी रामदेव महाराज के दिशानिर्देशन तथा पतंजलि योगपीठए हरिद्वार के तत्वावधान में पूरे भारतवर्ष में योगए आयुर्वेद एवं स्वदेशी के प्रचार.प्रसार के साथ देश के कोने.कोने तक स्वदेशी के अभियान को ष्स्वदेशी से समृद्धिष् के साथ जोड़कर विस्तार दिया जा रहा है।आज मेरठए सहारनपुर तथा मुरादाबाद मण्डल के अन्तर्गत संचालित 271 उत्तर प्रदेश सहकारी समितियों के मध्य अनुबंध किया गया है जो जल्द ही एक व्यापक रूप लेकर ग्रामीण लोगों के साथ.साथ सहकारी समितियों को भी लाभान्वित करेगा। इस योजना से रोजगार सृजन भी होगाए प्रत्येक पतंजलि सहकारी केन्द्रों पर एक केन्द्र पर तीन व्यक्तियों को रोजगार भी सुलभ होगा।

इस अनुबंध से पतंजलि सहकारी आरोग्य केन्द्रों पर संस्था द्वारा निर्मित कुछ पेटेन्ट आयुर्वेदिक औषधियाँए खाद्य उत्पादए आयुर्वेदिक सौन्दर्य प्रसाधन एवं अन्य मुख्य उत्पाद उपलब्ध होंगे। इन उत्पादों को घर.घर पहुँचाने के लिए ष्स्वदेशी समृद्धि कार्ड योजनाष् के सदस्य बनाकर उन्हें पतंजलि सहकारी आरोग्य केन्द्र के स्वदेशी अभियान से जोड़ना तथा केन्द्र के माध्यम से इस सेवा को क्रियान्वित करना है। उन्होंने बताया कि योजना से जुड़ने वाले सदस्यों को पतंजलि के विविध स्वदेशी उत्पादों की खरीद पर 5 से 7 प्रतिशत की छूट प्रदान की जायेगी। साथ ही स्वदेशी समृद्धि कार्ड धारक को एक बीमा योजना से जोड़ा जा रहा है जिसके अन्तर्गत कार्डधारक की दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर उसके द्वारा नामित या आश्रित व्यक्ति को अनुदान सहयोग के रूप में 5 लाख रुपये की राशि प्रदान की जायेगी। इसके साथ ही कार्डधारक की स्थायी दिव्यांगता होने पर कार्डधारक को 2ण्5 लाख रुपये सहायतार्थ प्रदान किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्रों को सही समय पर उत्पाद उपलब्ध कराने हेतु एक मजबूत सप्लाई चेन बनाई गई है। साथ ही एक सॉफ्रटवेयर भी विकसित किया गया है जिसके माध्यम से आर्डर बिलिंगए इंवेन्ट्री तथा अकाउंटिंग भी की जा सकेगी। यह सॉफ्रटवेयर समितियों को निःशुल्क उपलब्ध कराया जायेगा।

बैठक में उत्तर प्रदेश सहकारिता के सचिव वीण्एसण् रामी रेड्डी ने कहा कि आज सहकारिता विभाग के लिए एक शुभ तथा नयी शुरुआत है। उन्होंने कहा कि पतंजलि आयुर्वेद लिण् देश की सेवा में पूर्ण रूप से लगा है। जहाँ एक ओर पूज्य स्वामी रामदेव महाराज ने योग के क्षेत्र में क्रांति का सूत्रपात किया वहीं आचार्य बालकृष्ण ने आयुर्वेद तथा कृषि में उच्च कोटि का अनुसंधान कर नये कीर्तिमान बनाए हैं। उन्होंने उन्नत तकनीक से पतंजलि अनुसंधान संस्थान विकसित किया जिसमें सभी सुलभ तथा विलुप्त पादपों की जानकारियाँए उनके गुण व प्रभावों को संकलित करने का महत्त्वपूर्ण कार्य किया है। सहकारी समितियों के साथ यह अनुबंध एक नई पहल है जो ग्रामीणों के जीवन में नई आशा की किरण लेकर आएगीए साथ ही सहकारी समितियाँ भी इससे लाभान्वित होंगी। आज यहाँ 271 समितियों को जोड़ा गया है। आगामी एक से दो वर्ष में लगभग 3500 समितियों को इस योजना से जोड़ा जाएगा जिससे लगभग 3500 करोड़ के उत्पाद विक्रय करने का लक्ष्य है।

अपर निबंधक एसण्एनण् तिवारी ने कहा कि यह योजना सहकारी विभाग में अप्रैल.मई 2018 में 3 मण्डलों सहारनपुरए मेरठ तथा मुरादाबाद से प्रारम्भ हुई थी। इसके अंतर्गत सहकारी समितियाँ पतंजलि आयुर्वेद लिण् से सीधे उत्पाद क्रय कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि हर्ष का विषय हैए प्रथम चरण में सम्मिलित की गई सभी सहकारी समितियाँ इससे लाभान्वित हुई हैं तथा वे उन सभी समितियों के संचालक आज यहाँ शत.प्रतिशत उपस्थित हैं।
पतंजलि बॉयो अनुसंधान संस्थान के उपाध्यक्ष आरण्केण् आनन्द ने पीण्बीण्आरण्आईण् की कार्यप्रणाली तथा उत्पादों से समबंधित तथा कविन्दर ने सॉफ्रटवेयर सम्बन्धि समस्त जानकारियों तथा स्वेदशी समृद्धि कार्ड को एक प्रस्तुति के माध्यम से बैठक में उपस्थित महानुभावों के मध्य प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम में अपर निबंधक पीण्केण् अग्रवाल तथा श्री अखिलेश वाजपयी भी उपस्थित रहे। पतंजलि की ओर से कुण् अंशुल शर्मा कुण् पारुल शर्मा आरण्केण् आनन्द ऋषि वर्मा तथा ब्रह्मचारी राहुल आदि उपस्थित रहे।