China का बेकाबू Rocket मचा सकता है तबाही, 2 दिन के अंदर धरती पर गिरने वाला है Long March 5B, अलर्ट पर कई देश

न्यूयॉर्क, दुनिया को कोरोना महामारी में धकेलने वाले चीन ने अंतरिक्ष का बादशाह बनने की सनक में एक और संकट को जन्म दिया है। चीन द्वारा छोड़ा गया रॉकेट अंतरिक्ष में बेकाबू हो गया है और यह धरती की तरफ तेजी से आ रहा है। वैज्ञानिकों इस बात को लेकर आशंकित हैं कि यदि 21 टन वजन वाला यह रॉकेट किसी रिहायशी इलाके में गिरता है तो बड़ी तबाही मच सकती है। बताया जा रहा है कि चीन का यह विशालकाय रॉकेट अब यह शनिवार तड़के तक धरती पर गिर सकता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, चीन के पहले स्थायी अंतरिक्ष स्टेशन के मुख्य मॉड्यूल को कक्षा में लॉन्च करने वाले रॉकेट का सबसे बड़ा हिस्सा शनिवार तड़के किसी अज्ञात स्थान पर गिर सकता है। आमतौर पर पृथ्वी के वायुमंडल में घर्षण से नष्ट हो गए रॉकेट के अलग-अलग हिस्सों को तुरंत नियंत्रित तरीके से विध्वंस किया जाता है, लेकिन चीनी रॉकेट के साथ यह बात नहीं है।

यह रॉकेट करीब 100 फीट लंबा है और इसका वजन करीब 21 टन है। इन दो दिनों के समय में यह रॉकेट धरती का 30 बार चक्कर लगाएगा। यह रॉकेट एक घंटे में 18 हजार मील की दूरी तय कर रहा है। अगर यह हिस्सा किसी आबादी वाले इलाके में गिरा तो तबाही मच सकती है।

चीन की अंतरिक्ष एजेंसी ने अभी तक यह नहीं कहा है कि विशाल लॉन्ग मार्च 5 बी रॉकेट के “कोर स्टेज” को नियंत्रित किया जा रहा है या यह एक आउट ऑफ कंट्रोल होगा। पिछले मई में एक और चीनी रॉकेट पश्चिम अफ्रीका के अटलांटिक महासागर में अनियंत्रित होकर गिर गया था।

रॉकेट के हिस्से और इसके प्रक्षेपवक्र के बारे में बुनियादी जानकारी अज्ञात है क्योंकि चीनी सरकार ने अभी तक सार्वजनिक रूप से टिप्पणी नहीं की है। चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन ने फोन कॉल का बुधवार को जवाब नहीं दिया।

हालांकि, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा प्रकाशित समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने कहा कि इस हिस्से की एल्यूमीनियम-मिश्र धातु की बाहरी “पतली परत” आसानी से वातावरण में जल जाएगी, जिससे लोगों को बेहद कम जोखिम में रहना होगा।

अंतरिक्ष में मौजूद कचरे से यूं तो पृथ्वी के जीवन पर कोई खास जोखिम नहीं होता लेकिन इससे मौसम, पर्यावरण की जानकारी इकट्ठा करने वाले ऐक्टिव सैटलाइट्स को जरूर खतरा होता है।

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन के लॉन्ग मार्च 5बी रॉकेट का हिस्सा 8 से 10 मई के बीच पृथ्वी पर गिर सकता है। यूएस स्पेस कमांड रॉकेट पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। हालांकि, रॉकेट की सटीक लोकेशन बता पाना तब तक मुश्किल है जब तक यह पृथ्वी से चंद घंटे दूर न हो(साभार उत्तम हिन्दू न्यूज)।