केन्द्र ने जारी किया 1.70 हजार करोड़ का राहत पैकेज

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कहर और लॉकडाउन की वजह से उपजे देश के हालात को देखते हुए केंद्र की मोदी सरकार ने बड़ा राहत पैकेज का ऐलान किया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव से निपटने के लिए गुरुवार को 1.70 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों, दिहाड़ी मजदूरों को इससे राहत दी जाएगी। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों और मजदूरों को डायरेक्ट कैश ट्रांसफर होगा और लोगों को खाद्य सुरक्षा दी जाएगी। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन का ऐलान किया था और सरकार प्रभावितों और गरीबों की मदद के लिए काम कर रही है। अभी लॉकडाउन के केवल 36 घंटे हुए हैं और हम राहत पैकेज लेकर आए हैं, जो गरीबों का ध्यान रखेगा, जिन्हें तुरंत मदद की जरूरत है। तो चलिए जानते हैं कोरोना के खिलाफ जंग में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने क्या-क्या ऐलान किए हैं….

-वित्त मंत्री ने कहा कि अतिरिक्त लाभ के तौर पर 80 करोड़ लाभार्थियों को अगले तीन महीने तक पांच किलो गेहूं या चावल पूरी तरह से मुफ्त मिलेगा और यह पीडीएस के माध्यम से ही मिलेगा। उन्होंने आगे कहा कि इतने ही परिवार को एक किलो दाल मुफ्त में भी दिया जाएगा।

-प्रधानमंत्री गरीब कल्याण धन योजना के तहत किसान, मनरेगा, गरीब विधवा, गरीब पेंशनधारी और दिव्यांगों, और जनधन अकाउंट धारी महिलाओं, उज्ज्वला योजना की लाभार्थी महिलाएं, स्वंय सहायता समूह की महिलाओं और संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों, कंस्ट्रक्शन से जुड़े मजदूरों को मदद दी जाएगी।

– वित्त मंत्री ने कहा कि किसानों को सालाना 6 हजार रुपये पीएम किसान सम्मान निधि के तहत मिलते हैं, हम इसकी पहली किस्त अप्रैल के पहले हफ्ते किसानों को देंगे। इसका 8.69 करोड़ किसानों को इसका फायदा मिलेगा।

– वित्त मंत्री ने कहा कि तीन महीने के लिए प्रत्येक स्वास्थ्य कर्मचारी को 50 लाख रुपये का चिकित्सा बीमा दिया जाएगा।

-वित्त मंत्री ने मनरेगा के तहत दैनिक मजदूरी 182 रुपये से बढ़ाकर 202 रुपये किया। इससे पांच करोड़ परिवार को लाभ होगा।

-सरकार प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत 8.69 करोड़ किसानों को अप्रैल के पहले सप्ताह में दो-दो हजार रुपये का अग्रिम भुगतान करेगी।

– वित्त मंत्री ने कहा कि 20 करोड़ जनधन खाताधारक महिलाओं को 500 रुपये प्रति महीने अगले तीन महीनों तक मिलते रहेंगे। इससे 20 करोड़ महिलाओं को फायदा मिलेगा। तीन महीने में इन्हें कुल 15 सौ रुपये की मदद मिलेगी।

-उज्ज्वला योजना के तहत गरीब महिलाओं को सिलेंडर दिए गए हैं। 8 करोड़ महिलाओं को इससे धुएं से मुक्ति मली है। इस मुश्किल घड़ी में उनके लिए तीन महीने तक मुफ्त सिलेंडर दिया जाएगा। इससे 8.3 करोड़ बीपीएल परिवारों को फायदा होगा।

इससे पहले की पीसी में वित्त मंत्री ने क्या कहा था
इससे पहले वित्त मंत्री ने कहा था कि पैकेज पर काम जारी है और इसकी घोषणा जल्द की जाएगी। उन्होंने कहा था कि आर्थिक पैकेज से इस संकट से पार पाने में मदद मिलेगी। सीतारणम ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने को लेकर ‘लॉकडाउन के कारण उद्योग पर प्रतिकूल प्रभाव तथा नौकरियां जाने को लेकर प्रोत्साहन पैकेज की बात कही थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले सप्ताह वित्त मंत्री की अध्यक्षता में एक आर्थिक कार्यबल का गठन किया था। कार्यबल को कोरोना वायरस से प्रभावित अर्थव्यवस्था के लिये पैकेज पर काम करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी गई है।

 

केन्द्र सरकार का ऐलान : 80 करोड़ परिवार को 3 महीने तक 1 किलो दाल समेत 5 किलो गेहूं या चावल राशन मुफ्त

नई दिल्ली।कोरोना महामारी की चुनौतियों से निपटने के लिए देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण कई बड़ी घोषणाएं की है। लॉकडाउन से प्रत्यिक्ष रूप से प्रभावित गरीब और दिहाड़ी मजदूरों के साथ-साथ गांवों में रहने वालों के लिए सरकार ने 1.70 हजार करोड़ के राहत पैकेज देने की घोषणा की है।

वित्त मंत्री ने बताया कि 50 लाख का बीमा कवर उन लोगों को मिलेगा जो कोरोना वायरस के इलाज में प्रत्य क्ष या अप्रत्योक्ष रूप से अपनी भूमिका निभा रहे हैं। जिनमें डॉक्ट़र, पैरामेडिकल स्टा फ, सफाई कर्मचारी आदि शामिल हैं। प्रधानमंत्री गरीब कल्यापण अन्नन योजना के तहत 80 करोड़ गरीबों और दिहाड़ी मजदूरों को खाद्य राहत दी जाएगी, जिसके तहत 5 किलो गेहूं या चावल पहले से मिलता था अब 5 किलोग्राम अगले तीन महीने तक मुफ्त में देगी सरकार।
लॉकडाउन के दौरान लोगों को अपनी पसंद का 1 किलो दाल हर महीने फ्री मिलेगा। सरकार किसी को भूखा नहीं रहने देगी, हर किसी को अन्नो मिलेगा। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सीतारमण ने आयकर और जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की समय सीमा बढ़ा दी थी। इसके अलावा जीएसटी वार्षिक रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि भी 31 मार्च की जगह जून के अंतिम सप्ताह तक कर दी गई है।