सीएयू 14 अक्तूबर से 14 नवंबर तक करेगा क्रिकेट कैंप, खिलाड़ियों को देनी होगी कोरोना निगेटिव रिपोर्ट

देहरादून, क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड (सीएयू) की ओर से सीनियर क्रिकेटरों के लिए 14 अक्तूबर से कैंप आयोजित किया जाएगा। एक महीने के इस कैंप में शामिल होने के लिए खिलाड़ियों को अपनी कोरोना की निगेटिव जांच रिपोर्ट जमा करानी होगी। खिलाड़ियों व स्टाफ की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सभी आयोजन बायो बबल वातावरण में होंगे। प्रेस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए सीएयू के अध्यक्ष जोत सिंह गुनसोला और सचिव महिम वर्मा ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी में 14 अक्तूबर से 14 नवंबर तक एक माह का कैंप आयोजित किया जाएगा। आईपीएल में व्यस्त होने के कारण मुख्य कोच वसीम जाफर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े रहेंगे। गेंदबाजी कोच संतोष सक्सेना, सहायक कोच मनोज रावत, फिजियो, ट्रेनर और अन्य स्टाफ कैंप में मौजूद रहेगा।

उन्होंने बताया कि पिछले सत्र में उत्तराखंड का प्रतिनिधित्व करने वाले 29 क्रिकेटरों और तीन गेस्ट प्लेयर्स को कैंप में शामिल किया जाएगा। 10 अक्तूबर को अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी में खिलाड़ियों को रिपोर्ट करनी होगी। इसके लिए सभी खिलाड़ियों को अपने साथ आरटी पीसीआर की निगेटिव कोरोना रिपोर्ट लानी होगी। कैंप में प्रवेश से पहले भी सीएयू सभी खिलाड़ियों और स्टाफ की कोरोना जांच कराएगी। महिम ने बताया कि शुरुआती दो दिन सभी को सेल्फ आइसोलेशन में रहना होगा। दूसरी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद 13 अक्तूबर से खिलाड़ियों को कैंप में शामिल होने का मौका मिलेगा।

सभी जिलों में होंगे ट्रायल

सीएयू के सचिव महिम वर्मा ने बताया कि नवंबर से बीसीसीआई का घरेलू सत्र शुरू हो सकता है। इसको देखते हुए एसोसिएशन अपनी तैयारियों में जुट गई है। उन्होंने बताया कि 16 अक्तूबर से सभी जिलों में सीनियर टीम के जिला स्तरीय ट्रायल शुरू होंगे। 16 से 21 अक्तूबर तक जिला स्तर के ट्रायल और 22 अक्तूबर से जोनल ट्रायल होंगे।

जोनल ट्रायल देहरादून और काशीपुर में आयोजित किए जाएंगे, जिनमें से शॉर्टलिस्ट खिलाड़ियों को दून में आयोजित होने वाले फाइनल ट्रायल में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा। इसी तरह अंडर-23, अंडर-19 और अंडर-16 के ट्रायल भी होंगे। उन्होंने बताया कि 21 अक्तूबर से कसिगा स्कूल में महिला टीम के कैंप के आयोजन की तैयारी है। सभी ट्रायल और कैंप चिकित्सकों की गहन निगरानी में होंगे।

कोरोना सुरक्षा का रखा जाएगा पूरा ध्यान

ट्रायल और कैंप के दौरान कोरोना से सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा। ट्रायल व कैंप में शामिल होने वाले क्रिकेटरों को अपने माता-पिता से लिखित अनुमति लेनी होगी। इसके अलावा नियमित तौर पर बॉल व खेल का सामान सैनिटाइज भी किया जाएगा। सभी क्रिकेटरों को पानी भी अपने घर से ही लेकर आना होगा। ट्रायल के दौरान केवल क्रिकेटर को ही मैदान में आने की अनुमति होगी। उसके माता-पिता या परिचितों को मैदान में नहीं आने दिया जाएगा। कैंप में शामिल होने वाले खिलाड़ी और स्टाफ बाहर नहीं जा सकेगा। न ही किसी को वहां आने की अनुमति होगी। सभी जिलों में आयोजन के लिए प्रशासन की ओर से अनुमति मिल गई है
सचिव महिम वर्मा ने कहा कि अंडर-14 आयु वर्ग के ट्रायल और कैंप की संभावना फिलहाल कम है। कोरोना पर प्रभावी रोक लगने और वैक्सीन आने तक आयोजन होना मुश्किल है। छोटे बच्चों को लेकर किसी तरह का खतरा नहीं लिया जा सकता।