हनुमान मंदिर शिफ्ट मामले में व्यापारी प्रशासन आमने सामने

(देवेन्द्र चमोली)

रुद्रप्रयाग, राष्ट्रीय राजमार्ग चौड़ीकरण के चलते मुख्य बाजार स्थित हनुमान मंदिर को राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारी आज प्रशासन के साथ शिफ्ट करने पहुंचे विना मंदिर निर्माण किये मूर्ति को दूसरी जगह शिफ्ट करने का जैसे ही ब्यापारियों को पता चला तो सारे ब्यापारी बिरोध में आ गये काफी देर तक ब्यापारियों की प्रशासन व एन.एच अधिकारियों के साथ झड़प हुई मामले को तूल पकड़ते देख प्रशासन ने मूर्ति शिफ्ट करने से पीछे हटना पड़ा शांय करीब चार बजे प्रशासन व ब्यापारियों की बैठक बद्री केदार मंदिर समिति में आहुत की गयी।
बतादें कि रुद्रप्रयाग मुख्य बाजार में सड़क के बीचों बीच स्थित हनुमान मंदिर को राष्ट्रीय राजमार्ग चौड़ीकरण के चलते शिफ्ट किया जाना था इसको लेकर पूर्व में जिला प्रशासन की मध्यस्थता में एन.एच के अधिकारियों व ब्यापारियों की बैठक मे तय किया गया कि मंदिर को पौराणिक कुदरत बाबा मंदिर के बगल पर भब्य मंदिर बनाकर शिफ्ट किया जायेगा लेकिन अचानक न्यायालय का हवाला देकर 23 मार्च तक मंदिर को हटाने की बात कर आज एच.एच अधिकारियों के साथ एसडीएम वृजेश तिवारी पुलिस उपाधीक्षक जी.एल कोहली मय फोर्स मंदिर शिफ्ट करने पहुंचे जिसका ब्यापारियों ने जमकर विरोध किया ब्यापारियों का कहना है कि पूर्व में हुये समझौते से हटकर सारी धार्मिक मान्यताओं को दरकिनार कर प्रशासन धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहा है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा ब्यपारी एन.एच अधिकारियों से मांग कर रहे है कि पहले प्राचीन कुदरत बाबा मंदिर के पास भब्य मंदिर बनाये तब विधिविधान से हनुमान मंदिर को वहां शिफ्ट किया जायेगा। वहीं एन.एच के अधिकारियों व जिला प्रशासन का कहना है कि माननीय न्यायालय के निर्देशनुशार 23 मार्च तक मंदिर को हटा दिया जाना है जिसके तहत मंदिर हटाने की कार्यवाही की जा रही है बहरहाल मंदिर को लेकर ब्यापारियों व प्रशाशन के बीच तनातनी का माहौल बना हुआ है गतिरोध को खत्म करने को लेकर शांय 4 बजे जिला प्रशासन, एन.एच के अधिकारियों व ब्यापारियों की आवश्यक बैठक बद्री केदार मंदिर समिति के आवास गृह में आहुत की गयी जिसमें मंदिर निर्माण को लेकर ब्यापरियों व एन.एच के बीच समझौता हुआ ।
बैठक में एन.एच अधिकारियों के साथ एसडीएम बृजेश तिवारी, सीओ गणेश कोहली, ब्यापार संघ अध्यक्ष चन्दमोहन सेमवाल, प्रदीप बगवाड़ी, जिला पंचायत सदस्य नरेन्द्र विष्ट, कान्ता नौटियाल सहित रुद्रप्रयाग के ब्यापारी मौजूद है।