20 लाख रुपयों की लालच में मौसेरे भाई ने रची साजिश, शराब पिलाकर भाई को उतारा मौत के घाट

रायबरेली: रुपयों की लालच में आकर भाई ने भाई का ही कत्ल कर दिया और शव को तालाब में उगे जलकुंभी के नीचे दफन कर दिया. सूचना मिलने के बाद जांच के दौरान पुलिस ने शव को बाहर निकाला तो पूरे गांव में हड़कंप मच गया. मृतक दुबई से कमाकर लौटा था और उसके खाते में 20 लाख रुपए थे. इन्हीं रुपयों की लालच में आकर भाई ने भाई के रिश्ते को कलंकित कर दिया और खुद उसकी जान का दुश्मन बन बैठा. मामला डीहथाना क्षेत्र के रोखा गांव का है.

 

मौसेरे भाई को दिया एटीएम
डीह थानाक्षेत्र के रोखा निवासी अबरार का पुत्र फरमान कई सालों से सऊदी अरब में काम करता था और फिलहाल घर आया था. 14 सितंबर को वो बाइक खरीदने के लिए अपने मौसेरे भाई अरबाज के साथ घर से निकला था लेकिन वंहा पैसे कम पड़ जाने पर अपना एटीएम कार्ड और पासवर्ड बताकर मौसेरे भाई अरबाज को पैसे लेने भेजा. जब अरबाज ने उसके खाते में 20 लाख रुपये देखे तो उसका मन डोल गया और उसने उन रुपयों को हड़पने का मन बना लिया.

 

पार्टी के दौरान की हत्या
अरबाज ने अपने साथी कल्पनाथ के साथ मिलकर शाम को फरमान को बुलाया और शराब-कबाब की जमकर पार्टी हुई. जब फरमान ज्यादा नशे में हो गया तो उसकी डंडे से जमकर पिटाई कर मौत के घाट उतार दिया और उसके शव को कचौआ तालाब में फेंक दिया. जब रात में फरमान घर नहीं लौटा तो परिजनों ने थाने में तहरीर दी.

 

दोनों आरोपी गिरफ्तार
पुलिस के तलाश करने पर फरमान का शव तालाब में जलकुंभी के नीचे से मिला. पड़ताल करने पर शक की सुई अरबाज की तरफ घूमी और जब उससे कड़ाई से पूछताछ की गई तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया. पुलिस ने उसके साथी कल्पनाथ को भी गिरफ्तार कर लिया है. दोनों की निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल किया गया डंडा, फरमान के खाते से निकाले गए एक लाख 78 हजार रुपये और एटीएम कार्ड बरामद कर लिया गया.

 

पुलिस को बताई कहानी
मामले का खुलासा करने के लिए पुलिस अधीक्षक श्लोक कुमार ने स्वाट टीम प्रभारी अमरेश त्रिपाठी के साथ डीह प्रभारी जेपी यादव को निर्देशित किया था. जिसके बाद एक्टिव मोड में आई स्वाट टीम ने अरबाज और उसके मित्र कल्पनाथ को एक नाटकीय ढंग से सुराग रसी करके गिरफ्तार कर लिया. पहले तो दोनों तरह-तरह की कहानियां बताते रहे लेकिन जब सबूतों के आधार पर स्वाट टीम प्रभारी ने उससे पूछताछ की तो आरोपी ने गुनाह कुबूल कर किया.

 

इलाके में चर्चा
जैसे ही ग्रामीणों और रिश्तेदारों को पता चला कि उसका मौसेरा भाई ही अपने भाई का हत्यारा है तो लोगों में आक्रोश पैदा हो गया. ये मामला चर्चा का विषय भी बन गया कि पैसों की लालच में रिश्ते कैसे कलंकित होते हैं. फिलहाल पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.