बुरांसखंडा, धनोल्टी सुरकंडा व नाग टिब्बा में बर्फबारी का पर्यटक ले रहे आनंद

मसूरी। पहाड़ों की रानी मसूरी में मौसम लगातार दूसरे दिन भी खराब रहा तथा कड़ाके की सर्दी से जनजीवन प्रभावित हो गया। वहीं दूसरी ओर बुरांसखंडा, धनोल्टी व सुरकंडा सहित नागटिब्बा में बर्फबारी होने से र्प्यटकों को तांता लगा रहा व बर्फ का जमकर आनंद लिया।
मसूरी से बीस किमी दूर बुरांस खंडा में चार इंचं, धनोल्टी में छह इंच व सुरकंडा में करीब 9 इंच हिमपात हुआ है। बर्फबारी रात से सुबह तक हुई उसके बाद रूक गई। बुरांसखंडा, धनोल्टी में बड़ी संख्या में बर्फ देखने र्प्यटक आये व जमकर बर्फ के गोले एक दूसरे को मार कर आनंद लिया व खुशी का इजहार करने के साथ बर्फ में जमकर थिरके। दिल्ली से आये अमित कुमार ने कहा कि वह तीन दिन पूर्व दिल्ली से चले वहां बारिश हो रही थी उसी से अंदाजा लगाया और मसूरी आ गये व यहां से बुरांस खंडा आये तो बर्फ को लाइव पड़ते देखा जिससे बहुत खुशी हुई व पूरा इंज्वायं कर रहे है। उन्होंने देश भर के र्प्यटकों को संदेश दिया िकवे मसूरी आयें व कुदरत के इस अनमोल तोहफे का आनंद ले जीवन के यादगार पल साल ले जांए। दिल्ली से आई किरन गौरी ने कहा िकवह अपने पति के साथ आई हैं और अपनी शादी की सिलवर जुबली 25 वीं साल गिरह मना रहे हैं। यह पल उनके जीवन का सबसे आनंदित करने वाला पल है जिसका पूरा आनंद ले रहे हैं। इस आनंद में ठंड नहीं लग रही है। क्यों कि हम दिल से प्रकृति के इस नजारे का आनंद ले रहे हैं। बैगलुरू से आई रेखा व उनके पति सज्जन कुमार इस पल को अपने जीवन का सबसे अहम पल मानते हैं उनका कहना था कि जीवन में पहली बार बर्फ पड़ते देखना उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था ऐसे में जो खुशी हो रही है उसे बयान नहीं कर सकते बस एंज्वाय कर रहे हैं। बर्फ पड़ने से धनोल्टी, कददूखाल व बुरांसखंडा के व्यवसायियों के चेहरे भी खिल गये हैं। व उनका कहना है कि र्प्यटकों के आने से उनका व्यवसाय खूब चलेगा। बर्फबारी से अभी रोड़ बंद नहीं हुई है क्यो कि लोक निर्माण विभाग ने बर्फ पड़ते ही सड़क से बर्फ साफ करने के लिए छोटी जेसीबी लगा दी है जिससे पर्यटकों को वाहन ले जाने में परेशानी नहीं हो रही है।