केन्द्र और राज्य में भाजपा सरकार का राज फिर भी महिलायें असुरक्षित : महिला कांग्रेस

8

देहरादून। हैदराबाद प्रकरण से उत्तराखंड में भी उबाल है। जगह-जगह प्रदर्शन किए जा रहे हैं। महानगर महिला कांग्रेस ने जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की हैं। साथ ही कहा कि ऐसे कड़े कानून बनाए जाएं, जिससे दोषियों को जल्द से जल्द सजा मिले। इस दौरान उन्होंने भाजपा सरकार पर भी निशाना साधा। देहरादून महानगर महिला कांग्रेस की कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को अध्यक्ष कमलेश रमन के नेतृत्व में जिलाधिकारी सी. रविशंकर को ज्ञापन देकर हैदराबाद में हुई घटना पर रोष जताया। उन्होंने कहा कि देश में महिला अपराधों में कमी नहीं आ रही है। आरोप लगाया कि केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार के राज में महिलाएं खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं। इस मौके पर अनुराधा तिवाड़ी, सविता थापा, अंजू चौहान, बाला शर्मा, चंद्रकला नेगी, लता सिंह, मीना रावत, संतोष सैनी आदि मौजूद रहे।
एमकेपी (पीजी) कॉलेज की छात्राओं ने हैदराबाद प्रकरण के विरोध में पोस्टर और बैनर के साथ रैली निकाल दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ऐसे जघन्य अपराधों के खिलाफ ठोस कानून बनाकर अलग कोर्ट का गठन करे, जहां हर रोज सुनवाई हो। छात्राओं ने दो मिनट का मौन धारण कर दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। इस मौके पर पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष उर्वशी चौहान, ईरम, प्रियंल ध्यानी, नेहा कुमारी, आरती शर्मा, दीक्षा, सीमा आदि मौजूद रहीं। दून के सामाजिक संगठनों ने हैदराबाद प्रकरण की भर्त्सना करते हुए पीड़िता को श्रद्धांजलि दी। लोगों ने आरोपितों के प्रति गुस्सा प्रकट करते हुए उन्हें सख्त से सख्त सजा दिए जाने की मांग की। श्रद्धांजलि देने वालों में ब्रिगेडियर केजी बहल, जितेंद्र डंडोना, आचार्य बिपिन जोशी, सुशीला बलूनी, मंजु त्रिपाठी, मुकुल शर्मा, प्रदीप कुकरेती, बीएम थापा, प्रमिला रावत, प्रमिला राठौड़, अल्पना जदली, रविंद्र प्रधान, विशंभर बजाज, जगमोहन मेंदीरत्ता, मुकेश नारायण शर्मा, बीएस नेगी, मनोज ध्यानी, आमित जैन, पुरुषोत्तम भट्ट, गुलिस्तां खानम, पूजा सुब्बा शामिल रहीं।