सेलेक्शन के लिए कथित तौर पर रिश्वत मांगने वाले राजीव शुक्ला के सहायक सैफी ने दिया इस्तीफा, मामले की होगी जांच Only unofficial Test : इंग्लैंड लायंस ने भारत ए को 254 रन से रौंदा 1st Youth Test, Day 3 : श्रीलंकाई टीम 168 रन पीछे, भारत की नजरें जीत पर इंग्लैंड को सीरीज जिताने के बावजूद आखिर क्यों शर्मिंदा हैं जो रूट! PrevNext होमखेल सेलेक्शन के लिए कथित तौर पर रिश्वत मांगने वाले राजीव शुक्ला के सहायक सैफी ने दिया इस्तीफा, मामले की होगी जांच

आईपीएल अध्यक्ष राजीव शुक्ला के निजी स्टाफ के एक सदस्य को स्टिंग आपरेशन में उत्तर प्रदेश क्रिकेट टीम में खिलाड़ियों के चयन के लिए रिश्वत मांगने का आरोप लगने के बाद गुरुवार को इस्तीफा देना पड़ा. इससे पहले भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने मामले की जांच तक इस स्टाफ को निलंबित कर दिया था.

इस मामले का खुलासा एक स्टिंग आपरेशन में हुआ था. इस स्टिंग में दावा किया गया था कि आईपीएल अध्यक्ष राजीव शुक्ला के निजी स्टाफ के एक सदस्य ने खिलाड़ियों के चयन के लिए रिश्वत की मांग की. उत्तर प्रदेश के एक न्यूज चैनल ने शुक्ला के कार्यकारी सहायक अकरम सैफी और क्रिकेटर राहुल शर्मा की कथित बातचीत का प्रसारण किया था, जिसमें सैफी राज्य टीम में राहुल के चयन को सुनिश्चित करने के लिए ‘ नगदी और दूसरी चीजों’ की मांग कर रहा है. शुक्ला फिलहाल उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) के सचिव भी हैं.

बीसीसीआई के एक आंतरिक संदेश में कहा गया, ‘प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष और कार्यवाहक अध्यक्ष (सीके खन्ना) के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद बीसीसीआई के नियम 32 के तहत आयुक्त की नियुक्ति नहीं होने तक हम अकरम सैफी से उस पर लगे आरोपों पर स्पष्टीकरण की मांग करते हैं.’  इसमें कहा गया, ‘ सैफी के बयान की जांच आयुक्त करेंगे, जिनकी नियुक्ति होनी है.’

बीसीसीआई के नियम 32 के मुताबिक, किसी भी दुराचार की शिकायत का फैसला आयुक्त को करना होता है जिनकी नियुक्ति बोर्ड के अध्यक्ष सीके खन्ना अगले 48 घंटे में करेंगे. आयुक्त को अपनी जांच की रिपोर्ट 15 दिनों के अंदर देनी होती है, जिसे बीसीसीआई की अनुशासन समिति के पास भेज दिया जाएगा. बोर्ड के एक विश्वसनीय सूत्र ने बताया कि मामले की जांच तक सैफी को निलंबित कर दिया गया है.