ओखलकांडा में 50 और भवाली में 12 साल बीतने के बाद भी नहीं हो सका सड़क पर डामरीकरण

ग्रामीणों ने करायल बैंड पर किया डामरीकरण को लेकर प्रदर्शन, पिछले लोकसभा चुनाव का कर चुके हैं ग्रामीण बहिष्कार

(चंन्दन सिंह बिष्ट) ओखलकांडा/ढोलीगांव
जनपद नैनीताल के ओखलकांडा में दूरस्थ गांव टकुरा जमराड़ी में 50 साल बीतने के बावजूद भी 2 किमी डामरीकरण आज तक नहीं हो पाया। इस पर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष प्रमोद कोटलिया के नेतृत्व में बुधवार को स्थानीय गांव टकुरा, जमराड़ी, पैटना, रमेला गांव, गंगोलीगाड़ व मटियाल के ग्रामीणों ने सरकार के उदासीनता के चलते धरना प्रदर्शन कर अपना विरोध व्यक्त किया। कहा कि अब तक यही पता नहीं चला है कि इस सड़क का लोक निर्माण विभाग और वन विभाग में से मालिक कौन है। इस मुद्दे पर वह लोकसभा चुनावो का बहिष्कार करके अपना विरोध दर्ज कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि जल्दी ही इस 2 किलोमीटर सड़क मार्ग पर डामरीकरण नहीं हुआ तो वह बड़ा आंदोलन करेंगे। इस दौरान जमराडी के ग्राम प्रधान बलवीर सिंह बरगली सहित भूपाल सिंह, मनोज नगरकोटी, सतीश भट्ट, भूपाल कुमार, भीमराव, कमल रौतेला, मदन कुमार, कमल बोरा, राहुल बोरा, महिपाल बोरा, भरत बोरा, नरेश बोरा, उमेश बोरा, किशन बर्गली, नीरज बोरा, विनोद बर्गली, रमेश बोरा पुष्कर, जितेंद्र व भुवन महिपाल बर्गली आदि शामिल रहे।