आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों वितरित स्मार्ट मोबाइल फोन पर उठे सवाल, निम्न गुणवत्ता का मोबाइल फोन अधिक मूल्य पर खरीदा

देहरादून, राज्य के महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग (आईसीडीएस) में मोबाइल खरीद घोटाले की बू आ रही है। विभाग की ओर से राज्य की आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को जो स्मार्ट फोन दिये गये हैं उनके मूल्य और गुणवत्ता के आधार पर उनके सौदे को लेकर सवाल उठ रहे हैं। शिकायत है कि निम्न गुणवत्ता का मोबाइल फोन बाजार मूल्य से अधिक कीमत पर खरीदा गया जिससे सरकार को लाखों रूपये की चपत लगी।
केन्द्र सरकार की पोषण योजना के तहत देश के अन्य राज्यों की तरह उत्तराखण्ड में भी आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को स्मार्ट फोन उपलब्ध कराये गये।

आईसीडीएस ने ये मोबाइल फोन जेम पोर्टल के जिरये लावा कम्पनी के (लावा जेड61 टू जीबी) खरीदे। राज्य की सभी 20076 आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को ये स्मार्ट फोन वितरित कर दिये गये हैं। कहा गया कि सरकार की इस महात्वाकांक्षी योजना से न केवल आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की कार्यक्षमता में बढ़ेगी बल्कि कार्य भी साफ सुथरे और पारदर्शी तरीके से हो पायेंगे, पर यही फोन कार्यकत्रियों के लिये जी का जंजाल बन गये हैं। विभाग से उन्हें आदेश दिये गये हैं कि वे अब 14 रजिस्टरों का काम मैनुअली करने के बजाए स्मार्ट फोन पर करें। फोन के जरिये ही कार्यकत्रियों की लोकेशन, दिनभर किये गये कार्य आदि की मॉनीटरिंग भी होनी है। कार्यकत्रियों को दिए गए फोन में से कुछ में दिक्कत यह आ रही है कि फोन या तो ऑन नहीं हो रहे हैं या फिर उनमें नेटवर्क नहीं आ रहा है। ऐसे में उन्हें परिजनों के मोबाइल से हॉट स्टपॉट के जरिये इण्टरनेट शेयर करना पड़ रहा है ताकि वे अपनी रिपोर्ट विभाग को भेज सकें। कई आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने अपने खराब नये फोन सुपरवाइजर व मास्टर ट्रेनर को सौंप दिये हैं।lava z61 price के लिए इमेज परिणाम

जीरो टोलरेंस मे लाखों का मोबाइल खरीद घोटाला :


बाजार में है 5394 रुपया मूल्य
देहरादून। लावा जेड61 2 जीबी मोबाइल फोन की कीमत अमेजोन पर 5394 व फ्लिपकार्ट पर 4980 रूपया है। जबकि केन्द्र सरकार से पोष योजना के तहत राज्य सरकार को इसके लिये 10 हजार रूपया प्रतिमोबाइल के हिसाब से बजट दिया गया। हाल ही में इस सम्बंध में मुख्यमंत्री को एक शिकायत की गई है जिसमें कहा गया है कि विभाग ने ये मोबाइल बाजार मूल्य से प्रति लगभग 3500 रूपया अधिक दाम पर खरीदे।

निदेशक ने माना बाजार में कम हैं दाम

देहरादून। आईसीडीएस निदेशक झरना कामठान ने स्वीकार किया है कि लावा कम्पनी का जो मोबाइल फोन जो विभाग ने खरीदा है उसके दाम बाजार में कम हैं। उन्होंने कहा कि विभाग ने अपने सॉफ्टवेयर के हिसाब से डायरेक्ट कम्पनी से ये मोबाइल फोन बनवाये और खरीदे। इसलिये इसके दाम अधिक हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को जो शिकायत इस सम्बंध में मिली थी वो गुमनाम पत्र था इसलिये उसे गंभीरता से नहीं लिया गया। शिकायत आयेगा तो जांच होगी।

‘गुणवत्ताविहीन मोबाइल फोन खरीदे जाने की शिकायत अधिकारियों से की गई लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई।

_ सुशीला खत्री, महासचिव, आंगनबाड़ी कार्यकत्री संघ।