टू प्लस टू वार्ता – अमेरिका की आंखों में खटक रही है भारत- रूस की दोस्ती

टू प्लस टू वार्ता आखिरी समय में टाला जाना दोनों देशों में तेजी से रिश्तों में बढ़ती खटास का ही नतीजा माना जा रहा है। विदेश मामलों के जानकार और कूटनीतिज्ञ इसे दुर्भाग्यपूर्ण और ट्रंप प्रशासन की कूटनीति का हिस्सा बता रहे हैं। वैसे अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि अमेरिका और भारत के रिश्तों को नई ऊंचाई पर ले जाने वाली यह वार्ता दूसरी बार क्यों स्थगित की गई है।

वैसे जानकारों का यह भी मानना है कि विदेश मंत्री पोम्पियो इन्हीं दिनों में कोरिया और रूस की यात्रा पर हैं और यह एक वजह इस वार्ता को टालने की हो सकती है। वहीं बताया यह भी जा रहा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इन दिनों काफी व्यस्त हैं।

बता दें कि टू प्लस टू वार्ता 6 जुलाई को होने वाली थी जिसमें विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण अपने अमेरिकी समकक्ष विदेश मंत्री पोम्पियो और रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस भाग लेने वाले थे। यह पहली बार नहीं है जब वार्ता टाली गई हो। इससे पहले मार्च में भी यह वार्ता टाली गई थी तब अमेरिका कोई अंदरूनी मामला ही था।