बच्चों के सपनों को साकार करने में स्कूल के साथ अभिभावकों की भी पूरी जिम्मेदारी : राज्यपाल

10

मसूरी। उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि बच्चों के सपनों को साकार करने के लिए स्कूल के साथ साथ अभिभावकों की भी पूरी जिम्मेदारी है। उन्होंने बच्चों का आहवान किया कि वे स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें क्यों कि अगर सफाई रहेगी तो भारत स्वस्थ्य होगा और तभी कुछ कर पायेंगे। मसूरी स्थित महात्मा योगेश्वर सरस्वती शिशु विद्यांमंदिर इंटर कालेज में प. दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसायटी के तत्वाधान में कोट वितरण कार्यक्रम में पहुंची राज्यपाल बेबीरानी मौर्य का जोरदार स्वागत किया गया। इस मौके पर उन्हें तुलसी का पौधा भेंट किया गया व शॉल ओढ़ा कर सम्मान दिया गया। इस मौके पर उन्होंने बच्चों को कोट वितरित किए व अपने संबोधन में कहा कि उत्तराखंड देव भूमि के साथ ही वीर भूमि भी है। यह सभी का दायित्व है कि बच्चों के सपने कैसे साकार हों इसके लिए विद्यालय के साथ माता पिताओं का भी दायित्व है। उन्होंने उत्तराखंड की महिलाओं को प्रणाम करते हुए कहा कि उनसे बड़ी प्रेरणा मिलती है कि वे प्रातः खेतीबाड़ी का कार्य करने के साथ परिवार की जिम्मेदारी निभाती हैं बच्चों की देखभाल करती हैं व घर को चलाती हैं। वहीं कहा कि यहां की महिलाएं जागरूक हैं। उन्होंने कहा कि विधायक गणेश जोशी ने गरीबी को देखा है जिस कारण वह भावुक हो जाते हैं यह पीड़ा उनके मन में रहती है। उन्होंने बच्चों का आहवान किया कि वे मेहनत करंे उनके सपने जरूर पूरे हांेगे क्यों कि यह महात्मा योगेश्वर की पीठ है इस स्थान का अपना महत्व है। उन्होंने बच्चों से कहा कि अगर आपके आसपास कोई गरीब भूखा हो तो उसे खाना खिलायें व कपडे़ नहीं हैं तो कपड़े दें। वहीं कहा कि बच्चे समाज में अपनी भागीदारी निभाएंगे तो मसूरी सुसंस्कृत, शिक्षित नगरी होगी। इससे पूर्व प. दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसायटी की अध्यक्ष नेहा जोशी ने कहा कि प्रदेश की राज्यपाल सभी के लिए प्रेरणा हैं जिन्होंने अपने जीवन में राजनीति व सामाजिक क्षेत्र में अनेक कार्य किए हैं। व अपनी अलग पहचान बनाई है व कई सम्मान हासिल किए हैं। इस मौके पर उन्होंने सोसायटी के बारे में बताया कि गत एक दशक से टिहरी क्षेत्र में समाज सेवा का कार्य कर रही है। सोसायटी ने मसूरी में प्लास्टिक मुक्त शहर बनाने का बीड़ा उठाया है और एक साल के अंदर प्लास्टिक मुक्त बनाने का लक्ष्य रखा है। इस मौके पर उन्हांेने विद्यालय की सराहना की कि यहां पर आधुनिक शिक्षा के साथ संस्कार भी दिए जा रहे हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विधायक गणेश जोशी ने कहा कि उनका लक्ष्य है कि उनकी विधानसभा में कोई स्कूल बिना फर्नीचर व गर्म कपड़ों के न रहे। इस दिशा में अभी तक चार हजार छह सौ बच्चों को कोट वितरित किए जा चुके है और अभी तीन हजार दो सौ बच्चे शेष हैं उन्हें भी कोट दिए जाएगें। उन्होंने बताया कि विधानसभा में 95प्रतिशत स्कूलों को फर्नीचर दिए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि विद्या के मंदिर के प्रति उनका विशेष लगाव रहता है तथा हर संभव उनकी समस्याओं के समाधान करने का प्रयास किया जाता है। उन्होंने बताया िकइस विद्यालय में दूर दूर सुवाखोली व कैम्पटी से बच्चे पढ़ने आते हैं उनकी परेशानी को देखते हुए उन्होंने विद्यालय को मिनी बस या वैन देने की घोषणा की। कार्यक्रम में प्रधानाचार्य मनोज रयाल ने सभी अतिथियों का स्वागत किया व विद्यालय के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस मौके पर बच्चों ने मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचाालन शैलेंद्र जोशी ने किया व नरेश आनंद ने आभार व्यक्त किया। इस मौके पर प्रदीप कुमार मौर्य, भाजपा जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष दीपक पुंडीर, रमेश जोशी, भाजपा मसूरी मंडल के उपाध्यक्ष राकेश अग्रवाल, अमित भटट, महामंत्री कुशाल राणा, अरविंद सेमवाल, मुकेश धनाई, रणवीर सिंह, आलोक मल्होत्रा, अशोक अग्रवाल, महिला मोर्चा अध्यक्ष मीरा सुरियाल महामंत्री कमला थपलियाल, कमल शर्मा, मीरा सकलानी, युवा मोर्चा अध्यक्ष राकेश रावत सहित बड़ी संख्या में अतिथि व अभिभावक मौजूद रहे।
बाक्स- राज्यपाल ने अपने संबांेधन के दौरान बच्चों से सीधें संवाद किया व उनसे पूछा कि तुम जीवन में क्या बनना चाहते हो। इस पर बच्चों ने डाक्टर, इंजीनियर, सेना अधिकारी, नेवी अधिकारी, होटल प्रबंधक, पत्रकार, पायलेट बनने की बात कही। जिस पर राज्यपाल ने उन्हें कहा कि कड़ी मेहनत करो ताकि सपने पूरे हो सकें उन्होंने बच्चों की सोच को सकारात्मक बताया व कहा कि यही बच्चे जीवन में सफलता हासिल करते हैं व अपने शहर व देश का नाम रौशन करेंगे।