पुलिस प्रशासन हुआ सख्त, भू-माफियाओं के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने के एसएसपी ने दिए निर्देश

देहरादून, उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा जनपद के पुलिस कार्यालय में नगर क्षेत्र के समस्त क्षेत्राधिकारियों के साथ गोष्ठी आयोजित की गयी। गोष्ठी के दौरान पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा उपस्थित समस्त क्षेत्राधिकारियों को भू-माफियाओं के विरूद्ध कडी कार्यवाही किये जाने के सम्बन्ध में निम्न दिशा-निर्देश निर्गत किये गये।

पूर्व में भूमि सम्बन्धित धोखाधडी के पंजीकृत मुकदमों का अवलोकन करेंगे तथा उनका नियमानुसार यथाशीघ्र निस्तारण करना सुनिश्चित करेंगे।
यदि पूर्व में पंजीकृत उक्त प्रकार के अभियोगों में कुख्यात/शातिर भू-माफियाओं की संलिप्तता पायी जाती है तो उनके विरूद्ध भी कठोर वैधानिक कार्यवाही की जाये तथा ऐसे भू-माफियाओं को किसी भी दशा में बख्शा नहीं जाये।
भू-माफियाओं को सरंक्षण देने वाले सफेदपोश ऐसे लोग जो पर्दे के पीछे रहकर कार्य/मदद करते हैं को भी चिन्हित कर उनकी विस्तृत जांच कर उनके विरूद्ध कठोर वैधानिक कार्यवाही की जाये।
विवेचना/जांच के दौरान यह भी देखा जाये कि इनके द्वारा धोखाधडी कर अर्जित की गयी सम्पत्ति कहां-कहां पर स्थित है कीं विस्तृत जानकारी एकत्रित की जाये।
यह भी निर्देश दिया कि इस प्रकार के प्रकरणों में सरकारी तंत्र से जुडे अधिकारी/कर्मचारीगणों की संलिप्तता की भी गहनता से छानबीन कर ऐसे लोगों को चिन्हित करने के उपरान्त उनके विरूद्ध भी कठोर कार्यवाही की जाये।
भू-माफियाओं की मदद करने वाले राजस्व विभाग तथा रजिस्ट्रार कार्यालय से सम्बन्धित ऐसे अधिकारी/कर्मचारीगण जिनके द्वारा लगातार सफेद पोश/भू माफियाओं की सहायता की जा रही है को चिन्हित करते हुए उनकी विस्तृत जांच कर उनके विरूद्ध आवश्यक वैधानिक कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया।
भू-माफियाओं के विरूद्ध जांचोपरान्त नियमानुसार गैंगस्टर की कार्यवाही भी की जाये।
जांच के दौरान इसकी भी गहनता से जांच की जाये कि भू माफियाओं द्वारा नियमों के विरूद्ध जाकर किस प्रकार अकूत सम्पत्ति क्रय की गयी।

भू-माफियाओं द्वारा किसी दूसरे व्यक्ति की सम्पत्ति को अपना बताकर एक ही सम्पत्ति को धोखे से कई अन्य लोगो को बेचे जाने अथवा किसी व्यक्ति की भूमि पर अवैध कब्जा किये जाने के सम्बन्ध में प्राप्त होने वाली शिकायतों को गम्भीरता से लेते हुए आवश्यक वैधानिक कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देशित किया गया।
गोष्ठी के दौरान यह भी निर्देशित किया गया कि इस प्रकार के प्रकरणों की जांच में किसी भी प्रकार की शिथिलता को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा तथा ऐसे अधिकारी/कर्मचारियों को भी बख्शा नहीं जायेगा। इसके अतिरिक्त समस्त क्षेत्राधिकारियों को अपने-अपने सर्किल क्षेत्रों में लगातार भू-माफियाओं द्वारा किये जा रहे अवैध कब्जे आदि पर सतर्क दृष्टि रखते हुए उनके विरूद्ध कडी से कडी कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देशित किया गया।