सामूहिक दुष्कर्म व हत्या का आरोपी, 4 साल बाद पंजाब से हुआ गिरफ्तार

देहरादून, उत्तराखण्ड़ एसओजी और मसूरी कोतवाली पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई कर महिला से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में फरार चल रहे आरोपी को पंजाब से गिरफ्तार किया है। एसएसपी डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि 20 जुलाई 2017 को कोतवाली मसूरी के चूनाखाला से नीचे जंगल में एक महिला का शव पेड़ पर चुनरी से लटका हुआ मिला था। पुलिस ने मौके से सिम और मोबाइल बरामद किया था।

22 जुलाई को महिला की पहचान उत्तरकाशी निवासी के रूप में हुई थी। इस मामले में परिजनों ने 14 अगस्त को हत्या समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने घटनास्थल के पास मिले सिम और मोबाइल की जांच की। सिम प्रमोद मंडल के नाम पर होने की बात सामने आई थी। पुलिस की जांच में सामने आया कि महिला ने विवाह किया था और वह चंडीगढ़ में पति संग रह रही थी। महिला 15 जुलाई को चंडीगढ़ से दून पहुंची थी। महिला काम की तलाश में मसूरी में भटक रही थी। यहां भट्टा गांव में महिला की मुलाकात प्रमोद मंडल से हुई थी। प्रमोद महिला को काम दिलाने की बात कहकर अपने साथ ले गया।

उसके बाद प्रमोद मंछल तथा उसके आठ अन्य साथियों ने महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया और उसकी हत्या कर दी। शव को गांव से नीचे जंगल में ले जाकर उसकी चुनरी से पेड पर लटका दिया तथा पहचान छुपाने के लिये महिला के चेहरे व शरीर पर तेजाब तक डाल दिया था। इस मामले में पुलिस ने 16 अगस्त को प्रमोद मंडल पुत्र नागेश्वर मंडल, नारायण मंडल पुत्र कामेश्वर मंडल, राकेश मंडल पुत्र नन्दलाल, सुखाड़ी मंडल पुत्र उदान, राकेश साहनी पुत्र नंद साहनी निवासीगण सीतमढ़ी बिहार को गिरफ्तार किया था।

जबकि नंदू पंडित, ढगा मंडल, जयकरन भगत और सुरेंद्र साहनी निवासी बिहार फरार थे।इन पर पुलिस मुख्यालय ने पांच-पांच हजार का ईनाम घोषित किया था।एसएसपी ने बताया कि एसपी सिटी श्वेता चौबे, सीओ नरेंद्र पंत के नेतृत्व में पुलिस टीम ईनामियों की तलाश में दबिशें दे रही हैं।इसी क्रम में नंदू पंडित निवासी गांव डुमरीकला थाना मेजरगंज सीतमढ़ी बिहार के पंजाब में होने की सूचना मिली जिस पर एसओजी इंचार्ज ऐेश्वर्य पाल, एसएसआई मोहन सिंह ठकुना, मसूरी कोतवाली के एसएसआई मनोहर रावत के नेतृत्व में पुलिस टीम ने पंजाब के सनोली राजपुरा से नंदू को गिरफ्तार कर लिया।