अभ्यर्थियों का अधीनस्थ सेवा चयन आयोग में जोरदार प्रदर्शन

25

देहरादून। यूपीसीएल/पिटकुल में जेई के 252 पदों के लिए हुई भर्ती मामले में हरिद्वार जिला प्रशासन पर गलत जांच रिपोर्ट देने का आरोप लगाते हुए चयनित अभ्यर्थियों ने बुधवार को अधीनस्थ सेवा चयन आयोग कार्यालय में प्रदर्शन किया। हालांकि आयोग ने स्पष्ट कर दिया है कि अब इस मामले से कोर्ट के निर्णय के अनुसार ही कार्रवाई की जाएगी। नवंबर 2017 में आयोजित इस परीक्षा का रिजल्ट फरवरी 2018 में जारी किया गया था। लेकिन तब रुड़की के एक ही कोचिंग संस्थान से 64 छात्रों के चयन होने से परीक्षा विवादों में आ गई थी। इसके बाद शासन के आदेश पर हरिद्वार जिला प्रशासन ने इस मामले की जांच की।

इस बीच मामला हाईकोर्ट भी पहुंच चुका है। अब अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने हरिद्वार जिला प्रशासन की जांच रिपोर्ट के आधार पर परीक्षा निरस्त करने की इजाजत कोर्ट से मांगी है। इस बीच बुधवार को बड़ी संख्या में चयनित अभ्यर्थी रिंग रोड स्थित आयोग पहुंच प्रदर्शन किया। यहां चयनित अभ्यर्थियों ने आयोग के अध्यक्ष एस राजू और सचिव संतोष बडोनी के सामने अपनी बात रखी। कहा कि हरिद्वार जिला प्रशासन की रिपोर्ट में कई खामियां है। टॉपर पर जिन पांच प्रश्नों को लेकर सवाल उठाया जा रहा है, उसने उन्हें हल ही नहीं किया। अन्य नौ अभ्यर्थियों पर जिन पांच प्रश्नों को जानबूझकर गलत करने का आरोप है, वो भी निराधार है। इसलिए आयोग कोर्ट के सामने इन तथ्यों को रखे।

हालांकि आयोग ने छात्रों को बताया है कि छात्र चाहे तो कोर्ट के सामने इन तथ्यों को रख सकते हैं। आयोग अपनी तरफ से रिपोर्ट दे चुका है। प्रदर्शन करने वालों में अनुज कुमार, सोनी कटारिया, विनीत कुमार, मिथुन सिंह, दिनेश पंवार, संतोषी भंडारी, करिश्मा कपूर, अंजू रानी आदि शामिल थे। इधर, आयोग के सचिव संतोष बडोनी ने बताया कि आयोग अपनी रिपोर्ट पहले ही कोर्ट को दे चुका है। अब कोर्ट का जो भी आदेश आएगा उस पर अमल किया जाएगा। इससे पहले आयोग इस मामले में कोई हस्तक्षेप नहीं करेगा।