जांच के लिए भोपाल जाने से पूर्व आरती दयाल की फिर हुई तबियत खराब, आईसीयू में हुई भर्ती

इंदौर. हनीट्रैप मामले में सोमवार को आगे की जांच के लिए भोपाल ले जाने से पहले आरोपी आरती दयाल की एक बार फिर से तबीयत खराब हो गई, जिसके बाद उसे एमवाय अस्पताल में आईसीयू में भर्ती करवाना पड़ा। वहीं पलासिया टीआई टीम के साथ आरोपी मानिका यादव को लेकर भोपाल रवाना हुए। पुलिस दोनों को ले जाने के लिए रिमांड रूम में पहुंची तो आरती बेहोश पड़ी थी, जिसके बाद उसे उठाकर अस्पताल पहुंचाया गया। पुलिस भोपाल के अलावा इन्हें लेकर छतरपुर और राजगढ़ भी ले जा सकती है।

एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने बताया कि आरती और मोनिका को पुलिस रिमांड पर लिया गया है। भोपाल, राजगढ़, और छतरपुर आदि जगहों पर पुलिस को जांच करनी है। इंदौर के होटलों में अब तक वर्क किया जा चुका है। यहां के दो होटल से कुछ जानकारी मिली है, जहां फेक आईडी से जुड़ी जानकारी मिली है।इसके पहले रविवार को कोर्ट में सुनवाई के दौरान आरती और मोनिका रोने लगीं। पेशी के बाद थाने पहुंचते ही दोनों की तबीयत खराब हो गई तो उन्हें एमवाय अस्पताल ले जाया गया।

डिहाइड्रेशन की शिकायत के चलते दोनों को उपचार देकर रात को ही वापस महिला थाने भेज दिया गया था।हनी ट्रैप केस की आरोपी आरती दयाल और मोनिका यादव का रिमांड बढ़ाने के लिए रविवार को पहली बार पुलिस ने कोर्ट में कहा कि दोनों ने कई बड़ी हस्तियों को ब्लैकमेल किया। ये फर्जी आधार कार्ड बनाकर होटलों में रुकीं और मोबाइल से कई वीडियो बनाए। आगे की जांच और उनके घरों पर छापे मारने के लिए 28 सितंबर तक का रिमांड चाहिए। कोर्ट ने इन्हें शुक्रवार यानी 27 सितंबर तक पुलिस रिमांड पर सौंपा है, जबकि ड्राइवर ओमप्रकाश को जेल भेज दिया।

कोर्ट में पलासिया थाने के नए टीआई शशिकांत चौरसिया खुद पेश हुए और कहा कि दोनों ही आरोपी काफी शातिर हैं। इनके पास कई फर्जी आधार कार्ड हैं। इनसे निगम इंजीनियर हरभजन सिंह से वसूले गए रुपए जब्त करना है, इसलिए इनका रिमांड चाहिए। न्यायाधीश ने पुलिस से छतरपुर की दूरी पूछी। टीआई ने कहा कि लगभग 650 किमी का सफर करना होगा। आरोपियों के वकील ने कहा कि पुलिस ने सारी चीजें जब्त कर ली, अब उन्हें सिर्फ परेशान किया जा रहा है। इन्होंने और किसी बड़ी हस्ती को ब्लैकमेल किया है, तो पुलिस नाम जाहिर करें। दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद कोर्ट ने रिमांड बढ़ा दिया। सुनवाई के दौरान ही दोनों फूट-फूटकर रोने लगी थी। हरभजन को खुद फंसाना चाहती थी आरती, असफल रही तो मोनिका को आगे किया

यह खबर जरूर पढ़े:  ह्यूस्टन में मोदी पर टिकी विश्व की निगाहें, झलक पाने को आतुर हुए लोग

आरती और मोनिका से पूछताछ में कई खुलासे हो रहे हैं। आरती को श्वेता ने नगर निगम इंजीनियर हरभजन सिंह से मिलवाया था, तभी आरती ने उसे फंसाने की स्क्रिप्ट तैयार कर ली थी। पहले तो आरती ने खुद हरभजन पर डोरे डाले और रिलेशन बनाने के लिए वॉट्सएप पर कई मैसेज भेजे। दो-तीन बार इंदौर के कैफे और रेस्त्रां में मुलाकात भी की, लेकिन जब उसे लगा कि वीडियो बनाना आसान नहीं है तो फिर उसने इस गेम में मोनिका को शामिल किया। उसे वह समझाकर लाई कि इंजीनियर बड़ा आसामी है। मुझे पैसा और तुम्हें सरकारी नौकरी मिलेगी। इसमें आरती को लगा कि अगर धमकाने के दौरान कभी वीडियो वायरल भी हो गया तो उसकी बदनामी नहीं होगी। हरभजन से नहीं मिली थी रूपा
होटल इन्फिनिटी में 30 अगस्त को मोनिका और आरती के साथ रूपा अहिरवार भी आई थी।

अब तक की जांच में पता चला है कि रूपा हरभजन से नहीं मिली। वह होटल आई और किसी काम का बोलकर चली गई थी। पुलिस उसके बारे में और जानकारी जुटा रही है। पुलिस ने होटल श्री और इन्फिनिटी को नोटिस देकर सीसीटीवी फुटेज मांगे हैं।

पता चला है कि आरती का भाई इंदौर के एक कॉलेज में पढ़ाई करता है। रविवार को आरती की कोर्ट में पेशी के दौरान वह भी आया था। पुलिस जानकारी जुटा रही है कि आरती भाई से मिलने के लिए इंदौर आती थी तो किन-किन लोगों से मिलती थी। जब पुलिस ने आरती को गिरफ्तार किया था तो उसके भाई ने हरभजन सिंह को मैसेज कर बहन को छुड़वाने की आग्रह किया था। यह मैसेज भी पुलिस के पास है।

उधर, जेल में बंद सागर की श्वेता जैन ने कुछ समय पहले एक व्यक्ति का वीडियो बनाया था। फिर उसे ब्लैकमेल करने वाली थी, लेकिन उसके पहले उसी व्यक्ति ने श्वेता का वीडियो वायरल कर उसे एक्सपोज कर दिया। इससे वह काफी गुस्सा हुई थी और एक नेता के साथ भोपाल साइबर सेल पहुंचकर इस वीडियो को डिलीट करवाने व अपना नाम हटवाने की मांग की थी।

नगर निगम के इंजीनियर ह्ररभजन सिंह से 3 करोड़ रुपए की मांग के बाद सामने आया था हनीट्रैप का पूरा मामला

government_092319070302.jpg

प्रशासन की ओर से जारी आदेश

आरोप के मुताबिक महिला ने कुछ रिकॉर्डिग भी कर ली थी. प्रारंभिक जांच के बाद मामला इंदौर क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया, जिसने राज्य एटीएस को एक बड़े रैकेट के बारे में बताया.

बता दें कि बड़े अधिकारियों, नेताओं और व्यवसायियों को अपने हुस्न के जाल में फंसाकर ब्लैकमेल करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए इंदौर और भोपाल की पुलिस के साथ ही एटीएस ने आरती दयाल, मोनिका यादव, श्वेता जैन समेत चार महिलाओं को गिरफ्तार किया था. इनमें एक छात्रा भी शामिल है.