आज 19 राज्‍य के लगभग 110 स्‍थानों पर CBI ने किया सर्च ऑपरेशन

32

CBI ने एक हफ्ते बाद फिर भ्रष्टाचार व दूसरे अपराधिक मामलों के आरोपियों पर एक साथ पूरे देश में कार्रवाई शुरू की है। पिछले मंगलवार को 18 शहरों में कुल 61 स्थानों पर छापा मारने के बाद अब CBI ने 19 राज्यों कुल 110 स्थानों की तलाशी ली है। छापे की कार्रवाई उत्तर प्रदेश में चीनी मिलों में विनिवेश में घोटाले, शिमला में स्कॉलरशीप घोटाले से लेकर जम्मू-कश्मीर में हथियार के लाइसेंस में हुए घोटाले तक कुल 30 मामलों में की गई। CBI ने साफ कर दिया है कि आगे भी भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम ऐसे ही जारी रहेगी।

CBI ने उत्तरप्रदेश में चीनी मिलों में विनिवेश में घोटाले के आरोप में एक FIR और छह प्रारंभिक जांच का केस दर्ज किया है। इसमें तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती के सचिव रहे व पूर्व आइएएस अधिकारी नेतराम समेत अन्य अधिकारियों को आरोपी बनाया गया है। घोटाले के सिलसिले में सीबीआइ ने मंगलवार को नेतराम, उत्तर प्रदेश राज्य सुगर कारपोरेशन के तत्कालीन प्रबंध निदेशक विनयप्रिय दुबे समेत अन्य आरोपियों के 14 ठिकानों पर छापा मारा गया। इसमें दिल्ली स्थित चार्टर्ड एकाउंटेंट के घर और दफ्तर भी शामिल है। CBI ने छापे में 11 लाख रुपये नकद के साथ-साथ अहम दस्तावेज बरामद होने का दावा किया है।

इसके साथ ही CBI ने जम्मू-कश्मीर में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर हथियार का लाइसेंस देने के मामले में भी कार्रवाई की है। आरोप है कि फर्जी दस्तावेजों के सहारे बंदूक, राइफल, पिस्तौल का लाइसेंस देने के साथ-साथ उसके कारतूस सप्लाई करने का एक बड़ा गिरोह सक्रिय था, जिनमें राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ जम्मू स्थित कई गन हाउस भी शामिल थे। इनके खिलाफ दो FIR दर्ज 11 स्थानों पर छापा मारा गया।

वहीं, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुडा से जुड़े एक जमीन घोटाले के सिलसिले में दिल्ली के जसोला स्थित बिल्डटेक कंपनी के दफ्तर छापा मारा गया। इस मामले में इसी साल जनवरी में केस दर्ज किया गया था। CBI ने छापे में हरियाणा में जमीन आवंटन से जुड़ी 14 फाइलें जब्त किये जाने का दावा किया है, जिनमें एक अहम फाइल हुडा के खिलाफ दर्ज केस से भी संबंधित है।

यूपीए सरकार के दौरान हुए विमानन क्षेत्र के कई घोटाले से जुड़े दीपक तलवार के खिलाफ CBI ने FCRA के उल्लंघन का नया मामला दर्ज कर लिया है। दीपक तलवार की एनजीओ एडवांटेज इंडिया को विदेशी विमान कंपनियों ने विदेशी चंदे के रूप में 90 करोड़ रुपये से अधिक की रकम दी थी। बैंक से इस पर छह करोड़ रुपये का ब्याज भी मिला था। लेकिन दीपक तलवार ने सामाजिक कार्यो में इसे खर्च करने के बजाय फर्जी बिल के सहारे पूरा पैसा निकाल लिया। ED पहले से इस मामले की जांच कर रही है। घोटाले के आरोप में दीपक तलवार को जनवरी में दुबई से लाया गया था और फिलहाल जेल में बंद है।

इसी तरह हिमाचल प्रदेश में अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के छात्रों के स्कॉलरशीप में हुए 250 करोड़ रुपये से अधिक घोटाले में भी CBI ने शिकंजा कस दिया है। इस मामले में कांगड़ा, चंबा, शिमला और उना के ट्रेनिंग सेंटरों पर छापा मारा गया। साथ ही CBI कानपुर स्थित ब्रिटिश इंडिया कारपोरेशन लिमिटेड की संपत्तियों के बेचने में हुए घोटाले के आरोप में तत्कालीन सीएमडी केए दुग्गल और कंपनी सेक्रेटरी केवी वाजपेयी के घर की तलाशी ली गई।

इसके साथ ही गाजियाबाद और बुलंदशहर के पीएनबी की शाखाओं में नोटबंदी के दौरान चलन से बाहर कर दिये नोटों के जमा कराने के मामले में छापा मारा गया। अन्य मामलों में छिंदबारा में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर जमीन बेचने और राजस्थान में एक महिला के गुम होने जैसे मामले भी शामिल हैं।