पुलवामा हमले के बाद बालाकोट में हुए एयरस्ट्राइक से मरे होंगे 300 आतंकवादी: विंग कमांडर अभिनंदन के पिता

36

एयर मार्शल (रिटायर्ड) सिम्हाकुट्टी वर्धमान ने बुधवार को कहा कि भारत के एयरस्ट्राइक में बालाकोट के आतंकवादी कैंप पर गिराए गए लेजर गाइडेड स्पाइस- 2000 बमों से 250-300 आतंवादी मारे गए होंगे। वर्धमान उन्हीं विंग कमांडर अभिनंदन के पिता हैं जो पाकिस्तान के युद्धक विमान एफ-16 को मार गिराने के बाद पाकिस्तानी सीमा में जा पहुंचे और दो दिनों तक पाकिस्तान की कस्टडी में रहकर वतन वापस आए।

आईआईटी-मद्रास में डिफेंस स्टडीज के स्टूडेंट्स से बालाकोट में जैश-ए-मुहम्मद के ट्रेनिंग कैंप पर एयरस्ट्राइक को लेकर बातचीत में पूर्व एयर मार्शल ने यह बात कही। उन्होंने कहा, ‘भारतीय वायु सेना ने तब धाबा बोला जब ज्यादातर आतंकवादी कैंप के अंदर थे। संभव है कि बिल्डिंग को कम नुकसान पहुंचा हो, लेकिन बम के देर से फटने के कारण ज्यादा-से-ज्यादा आतंकवादी मारे गए होंगे।’

उन्होंने आगे कहा, ‘पाकिस्तानी विमान एफ-16 और उसकी AMRAAM मिसाइलें वास्तव में हमारे लिए खतरा हैं। हमें बालाकोट की तरफ बढ़ते वक्त एफ-16 को भटकाना था और सुनिश्चित करना था कि पाकिस्तानी विमान दूसरी दिशा में चले जाएं। इसलिए, हमने उन्हें खूब भ्रमित किया।’ उन्होंने कहा, ‘दरअसल, हमने सात विमानों को बहावलपुर की दिशा में भेजा, जो जैश-ए-मुहम्मद का मुख्यालय है। पाकिस्तान को लगा कि हम बहावलपुर पर हमला करने जा रहे हैं और उसने हमारे युद्धक विमानों को रोकने के लिए अपने एफ-16 विमान भेज दिए। ठीक उसी वक्त, हमने बालाकोट में हमले के लिए अपने विमान भेज दिए। कुल मिलाकर, पाकिस्तानी एयर फोर्स पूरी तरह धोखा खा गई।’

एयर मार्शल वर्धमान ने कहा कि पाकिस्तान चौकस था और वह जानता था कि भारत हमला जरूर करेगा। उन्होंने कहा, ‘हालांकि, उसे यह बिल्कुल आभास नहीं था कि हम उसकी सीमा में घुस जाएंगे।’ उन्होंने कहा कि एयर स्ट्राइक को लेकर यह उनका आकलन है। उन्होंने कहा कि संभव है कि यह सही नहीं हो।