राजस्थान यूनिवर्सिटी चुनाव में NSUI का नहीं खुला खाता

राजस्थान यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनावी मुहिम में मंगलवार को तस्वीर साफ हो गई है. राजस्थान यूनिवर्सिटी में एक बार फिर से निर्दलीय प्रत्याशी ने जीत दर्ज की है, तो वहीं कांग्रेस की छात्रा इकाई एनएसयूआई (NSUI) का खाता भी नहीं खुला. आरएसएस की छात्र इकाई एबीवीपी को केवल संयुक्त सचिव पद के साथ संतोष करना पड़ा. बता दें कि इस बार के छात्रसंघ चुनावों में सभी राजनीतिक पार्टियों ने भी दमखम लगाया था और उसकी वजह थी आगामी विधानसभा चुनावों में यूथ का मेंडेट लेना, लेकिन चुनाव नतीजों ने साफ कर दिया कि जो काम करेगा वही चुनाव जीतेगा.

दोनों ही प्रमुख छात्र संगठनों (ABVP-NSUI) की ओर से जाट प्रत्याशी को टिकट दिया और जीत का दावा भी किया गया, लेकिन दावों की हवा नतीजों ने निकाल दी. छात्रसंघ चुनाव 2018 में चौकाने वाले नतीजे सामने आए. राजस्थान विश्वविद्यालय में आए नतीजों के बाद बड़े छात्र संगठन मुंह दिखाने लायक नहीं रहे. ये लगातार तीसरा मौका है जब आरयू यानि राजस्थान यूनिवर्सिटी में निर्दलीय ने उम्मीदवार बाजी मारी.

कांग्रेस एनएसयूआई से बागी हुए विनोद जाखड़ ने सर्वाधिक वोट लेकर अध्यक्ष पद पर जीत दर्ज की. वहीं एबीवीपी के राजपाल चौधरी दूसरे जबकि एनएसयूआई के रणवीर सिंघानिया तीसरे पायदान पर रहे. हालांकि विनोद जाखड़ ने घर वापसी के संकेत दे दिए है.

संयुक्त सचिव पद पर पंचायत पार्टी की पूनम कुमारी दूसरे स्थान पर रही, वहीं एनएसयूआई के नोमान खान तीसरे स्थान पर रहे.