मौत के खुलासे को लेकर कोतवाली का घेराव, परिजनों का कहना है कि पवन की आत्महत्या नहीं हत्या हुई

(अतुल अग्रवाल)

हल्द्वानी, मृतक व्यवसाई पवन कन्याल के परिजन कोतवाली पहुंच गए , 16 अगस्त से मृतक पवन कन्याल लापता था, जिसके बाद पुलिस, प्रशासन ने मृतक की खोजबीन की लेकिन पुलिस, प्रशासन को मृतक पवन कन्याल को ढूढ़ने में असफल रही। एक माह पश्चात 17 सिंतबर को मृतक पवन कन्याल का शव दो गांव के जंगल में पानी की गूल में सड़ा गला मिला। अब मृतक पवन कन्याल के परिजन कोतवाली पहुंचे है। स्थानीय लोगों के साथ कोतवाली पर धरना शुरू कर दिया है।

धरने के दौरान पवन की बहन एवं पत्नी अपने दो माह के मासूम बच्चे को लेकर धरने स्थल पर एसएसपी से मिल वार्ता करने की बात कहती रही , परन्तु परिजनों की एसएसपी नैनीताल से वार्ता नहीं हो सकी, जिसके पश्चात समर्थन में आये लोगों के द्वारा मित्र पुलिस एवं एसएसपी विरोधी नारे लगाते हुए कल पवन कन्याल के पीपल पानी के बाद दिन बुधवार को कोतवाली के सामने धरना करने की बात कहते हुए धरने को खत्म किया गया

दरअसल हल्द्वानी के मृतक व्यवसाई पवन कन्याल के परिजन आज कोतवाली पहुंच गए, इस दौरान परिजन स्थानीय लोगों के साथ कोतवाली में धरने पर बैठे। प्रदर्शन कर रहे स्थानीय और परिजनों का कहना है कि पवन की आत्महत्या नहीं हत्या हुई है, परिजनों ने कहा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी चोटों के निशान भी मिले हैं साथ ही परिजनों ने कहा कि पुलिस के द्वारा जहाँ डॉग स्कॉड, एसडीआरएफ और वन विभाग से कॉम्बिंग कराई गयी थी, बावजूद इसके एक महीने बाद उसी जगह पर पवन का शव मिला है। परिजनों ने इस दौरान मामले की उच्चस्तरीय जांच कर आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है।