बच्चों को औषधीय पौधों की जानकारियां दी

ऋषिकेश। वन विभाग, अनुग्रह रिहैबीलीटेशन ट्रस्ट व प्रकृति स्पर्श फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में वन महोत्सव 2018 के तहत बच्चों को विभिन्न पौधों की विशेषताओं की जानकारी दी गई। कार्यक्रम के तहत बच्चों ने 200 से अधिक विभिन्न प्रजाति के पौधे रौपे। शनिवार को मुनिकीरेती स्थित डा. सुशीला तिवारी हर्बल गार्डन में वन विभाग, अनुग्रह रिहैबीलीटेशन ट्रस्ट व प्रकृति स्पर्श फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में वन महोत्सव 2018 के तहत कार्यक्रम किया गया। कार्यक्रम में माउंट कारमेल स्कूल ढालवाला के बच्चों ने भाग लिया। डीएफओ धर्म सिंह मीणा ने कहा कि प्रकृति द्वारा निर्मित सभी चीजों का संरक्षण बेहद जरूरी है। वन प्रकृति का अभिन्न अंग है। लेकिन वर्तमान समय में विकास के नाम पर पेड़ों को काटा जा रहा है। जिससे पर्यावरण का संतुलन बिगड़ गया है और प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। रेंजर राकेश शाह ने कहा कि पेड़-पौधे मानव के लिए बेहद जरूरी हैं। इसके बिना मानव का विकास और जीवन संभव नहीं है। पर्यावरणविद् डा. एसएन मिश्रा उर्फ पेड़ बाबा ने बच्चों को बहेड़ा की जानकारी देते हुए कहा कि बहेड़ा सेवन करने वालों को कभी किसी प्रकार की बीमारी नहीं होती है। कहा कि बहेड़ा, हरड़ और आंवला आदि अमृत के समान हैं। उन्होंने विभिन्न औषधीय पेड़ों के बारे में बच्चों को बताया। इस दौरान बच्चों ने 200 से अधिक विभिन्न प्रजाति के पौधों का रोपण किया। मौके पर डा. जेआर डब्लू सिंह, राकेश शर्मा, वन दरोगा मोहन दत्त, कमल सिंह, मंजू असवाल, बिजेंद्र सिंह चौहान, प्रधानाचार्य टीके साजी आदि उपस्थित थे।